आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद शिवपुरी के कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट का घेराव कर अनुसूचित जाति एवं जनजाति के विद्यार्थियों के खाते में छात्रवृत्ति व आवास योजना का भुगतान शीघ्र कराने हेतु जिला प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए ज्ञापन सौंपा।
        नगर मंत्री आदित्य पाठक ने जानकारी देते हुए बताया कि सत्र 2018-19 समाप्त हो चुका है और नया सत्र प्रारंभ होने को है परंतु अभी तक अनुसूचित जाति एवं जनजाति के विद्यार्थियों को  छात्रवृत्ति व आवास भत्ता नहीं मिला है जो कि अनुसूचित जाति एवं जनजाति के विद्यार्थियों के साथ जिला प्रशासन के द्वारा अन्याय किया जा रहा है और इसी अन्याय के खिलाफ आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने जिलाधीश महोदय के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा।
पाठक ने बताया कि मध्यप्रदेश में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों को अपनी पढ़ाई  करने हेतु छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। वहीं साथ ही ऐसे विद्यार्थी जिन्हें छात्रावास में प्रवेश नहीं मिला पर रूम में किराए से रह कर पढ़ाई कर रहे है ऐसे छात्रों को छात्र आवास योजना के माध्यम से रूम किराए की राशि  प्रदेश सरकार द्वारा प्रदान की जाती है। जिससे गरीब विद्यार्थियों को पढ़ाई करने में किसी भी प्रकार की समस्या का सामना ना करना पड़े लेकिन देखा जाए तो जिला प्रशासन ने पूरा वर्ष बीतने के बावजूद व नया सत्र शुरू होने को है लेकिन प्रथम वर्ष में अध्ययनरत हजारों छात्रों के छात्रवृत्ति व छात्र आवास योजना की राशि विद्यार्थियों को प्रदान नहीं की गई है । जिससे छात्रों को काफी समस्या से जूझना पड़ रहा है जिससे जिला प्रशासन के प्रति छात्रों के मन में आक्रोष है।
विद्यार्थी परिषद ने लंबे समय से छात्रवृत्ति के विषय में पूर्व की  सरकार को भी अवगत कराया गया कि विद्यार्थियों  की छात्रवृत्ति समय पर प्राप्त हो जिससे की विद्यार्थियों को किसी प्रकार की समस्या का सामना ना करना पड़े । इसे  मुद्दे को लेकर जिला स्तर से लेकर प्रदेश  स्तर तक आंदोलन किये गये जिससे पूर्व की सरकार ने छात्र हित को ध्यान रखते हुए छात्रवृत्ति व आवास योजना की राशि का भुगतान समय पर किया जाता था। परंतु इस वर्ष नई कांग्रेस सरकार आने के बाद छात्रों की छात्रवृत्ति समय पर जमा ना होना चिंता का विषय है।
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नगरमंत्री आदित्य पाठक ने  चेतावनी देते हुए कहा कि छात्र हित को ध्यान में रखते हुए विद्यार्थी परिषद मांग करती है कि शीघ्र अति शीघ्र छात्रवृत्ति व आवास योजना की राशि का भुगतान किया जाए जिससे कि गरीब छात्र अपनी पढ़ाई आसानी से कर सके। यदि 5 दिवस के भीतर भुगतान नहीं किया जाता है तो अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद जिला प्रशासन के खिलाफ सडकों पर उतर कर आंदोलन करने के लिए बाध्य होगी जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी जिला शासन की होगी।
            इस दौरान विद्यार्थी परिषद के जिला संयोजक वेदांश सविता, नगर मंत्री आदित्य पाठक, मयंक राठौर,संकल्प जैन,देवेश धानुक,प्रदुम्न गोस्वामी,अभिषेक वाल्मीकि, राजकुमार शाक्य,मिट्ठू जाटव, साहिल माथुर,जय शाक्य,सुनील शाक्य,मिट्ठू जाटव,ऋषभ शेजवार, अमन खटीक,राजकुमार आदिवासी, दीपा जाटव के साथ साथ आधा सैकड़ा से अधिक कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

भोपाल। भोपाल कलेक्टर की नियुक्ति में देरी पर सियासत गरमाते ही राज्य शासन ने राजधानी की कमान बैतूल कलेक्टर तरुण पिथौड़े को सौंप दी है। बुधवार शाम पिथौड़े का पदस्थापना आदेश जारी हो गया। वहीं पिथौड़े की नई पदस्थापना के बाद बैतूल कलेक्टर का जिम्मा संचालक बजट तेजस्वी एस. नायक को सौंपा है। नायक पिछले कुछ महीनों से मंत्रालय में पदस्थ हैं।

शासन ने बुधवार शाम कुछ जिलों में कलेक्टरों की नई पदस्थापना की है। भोपाल कलेक्टर का पद पिछले पांच दिन से खाली था। शासन ने पांच जून को सुदाम पंढरीनाथ खाड़े को भोपाल से हटाकर मंत्रालय में अपर सचिव बनाया था और भोपाल नगर निगम आयुक्त बी. विजय दत्ता को कलेक्टर का प्रभार सौंपा था।



इस अवधि में शासन ने दो दर्जन से ज्यादा आईएएस अफसरों के तबादले किए, लेकिन भोपाल कलेक्टर की पदस्थापना नहीं की गई थी। इसे लेकर एक दिन पहले ही पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य सरकार पर निशाना साधा था।

वहीं शासन ने बीएस जामौद को दतिया कलेक्टर बनाया है। जामौद को लोकसभा उपचुनाव के पहले मुंगावली विधानसभा क्षेत्र की मतदाता सूची में गड़बड़ी के चलते 20 फरवरी 2018 को अशोकनगर कलेक्टर के पद से हटाया गया था। तब से वे मंत्रालय में कार्य कर रहे हैं। 

नाम-- वर्तमान पदस्थापना--नवीन पदस्थापना

अलोक कुमार सिंह -- उप सचिव चिकित्सा शिक्षा -- प्रबंध संचालक मप्र कृषि उद्योग विकास निगम (उद्यानिकी विभाग को सेवाएं सौंपते हुए)

B.S जामौद -- कलेक्टर दतिया -- उप सचिव गृह तथा कार्यपालक संचालक आपदा प्रबंध संस्थान (अतिरिक्त प्रभार)

विशेष गढ़पाले -- अवकाश से लौटने पर -- प्रबंध संचालक मप्र मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी

सतेंद्र सिंह -- उप सचिव मप्र शासन -- कलेक्टर सतना

भोपाल|भोपाल रेंज के आईजी योगेश देशमुख ने माना है कि बच्चियों और महिलाओं से जुड़े अपराधों में भोपाल पुलिस कम...


भोपाल|भोपाल रेंज के आईजी योगेश देशमुख ने माना है कि बच्चियों और महिलाओं से जुड़े अपराधों में भोपाल पुलिस कम संवेदनशील नजर आती है। अब भोपाल पुलिस के हर अफसर और निचले स्टाफ को संवेदनशील तो होना ही पड़ेगा। आईजी होने के नाते मुझे कुछ कमियां नजर आई हैं। इन्हें दूर करने के लिए मैंने विश्लेषण भी शुरू कर दिए हैं। दो दिन पहले कमला नगर थाना क्षेत्र में आठ वर्षीय छात्रा बेबी से ज्यादती के बाद हुई हत्या के मामले का हवाला देते हुए देशमुख ने ये बात मीडिया से कही। भोपाल आईजी का पद संभालने के बाद मंगलवार रात पुलिस कंट्रोल रूम में हुई उनकी ये पहली प्रेस कांफ्रेंस थी। आईजी ने कहा कि बच्चियों से जुड़े इस तरह के अपराध यूं तो छिपकर ही होते हैं। यदि ऐसा होते हमारे किसी स्टाफ को नजर आ गया तो आरोपी पर गोली भी चलेगी। भोपाल में किसी को लगता है कि गैंगवार कर लेंगे। तो इसे हम सहन नहीं कर सकेंगे। बगैर किसी दबाव के हमें पता है कि ऐसे अपराधियों से कैसे निपटना है? 

शिवपुरी, 10 जून 2019/ लालगढ़ आबादी फीडर पर प्रातः 06 बजे से प्रातः 11 बजे तक, उपकेन्द्र डाकबंगला के विवेकानंद फीडर पर प्रातः 06 बजे से प्रातः 11 बजे तक तथा 11 के.व्ही. भेड़फार्म फीडर पर 11 जून 2019 को विद्युत प्रवाह बंद रहेगा। 
उक्त फीडरों के बंद रहने से ग्राम लालगढ़, मानपुर, झूंड, झलवासा, टोंगरा के अंतर्गत आने वाले क्षेत्र, विवेकानंद काॅलोनी, सहगल टेंक आउस का क्षेत्र, माधव नगर, गणेश कालोनी, नबाव साहब रोड़, मनियर पार्क, वर्मा कालोनी टोंगरा रोड़ के साथ आई.टी.व्ही.पी. गेट के सामने राईन मार्केंट, राघवेन्द्र नगर आदि से जुड़े समस्त क्षेत्र प्रभावित रहेंगे। 

कोई बोला-श्रीमंत कभी हार नहीं सकते, यही अति विश्वास ले डूबा, तो किसी ने संगठन में निष्क्रिय लोगों को तवज्जो को बताया जवाबदेह शिवपुरी  प्रतिनिधि सिंधिया परिवार के गढ़ कहे जाने वाले गुना शिवपुरी लोकसभा सीट पर ज्योतिरादित्य सिंधिया की हार से कांग्रेस पार्टी सदमे में हैं। हार के बाद बीते रोज पहली बार शिवपुरी पहुंचे सिंधिया ने सोमवार

कोई बोला-श्रीमंत कभी हार नहीं सकते, यही अति विश्वास ले डूबा, तो किसी ने संगठन में निष्क्रिय लोगों को तवज्जो को बताया जवाबदेह


सिंधिया परिवार के गढ़ कहे जाने वाले गुना शिवपुरी लोकसभा सीट पर ज्योतिरादित्य सिंधिया की हार से कांग्रेस पार्टी सदमे में हैं। हार के बाद बीते रोज पहली बार शिवपुरी पहुंचे सिंधिया ने सोमवार को झांसी रोड स्थित सिंधिया जनसपंर्क कार्यालय में सुबह 11ः15 से 3ः15 तक करीब 4 घंटे की लंबी रायशुमारी कांग्रेस के बूथ लेवल कार्यकर्ताओं व मंडलम अध्यक्षों के साथ बंद कमरे में की
। भावुक दिखाई दे रहे सिंधिया ने जिले की तीन विधानसभा कोलारस, शिवपुरी व पिछोर के ग्रामीण व शहरी संगठन पदाधिकारियों को एक एक कर बुलाया और उनसे हार के कारणों को मौखिक व लिखित रूप में पूछा। इस दौरान पदाधिकारियों ने हार के अलग-अलग कारण गिनाए गए। किसी ने कहा कि श्रीमंत नहीं हार सकते, यह अति विश्वास भी कार्यकर्ताओं को करो या मरो की मानसिकता में नहीं ले गया। जितना परिश्रम किया जाना था, उतना नहीं हुआ। जिसका नतीजा रहा कि मतदाता ये कहता रहा कि वोट तो मोदी को दूंगा पर जीतेंगे तो महाराज ही। इसी तरह किसी कार्यकर्ता ने साफ शब्दों में कहा कि मंडल व जिला संगठन में जिन पदाधिकारियों को तवज्जो दी गई, उन्होंने अपेक्षित काम नहीं किया। कार्यकर्ताओं के साथ उनका तालमेल नहीं हुआ।भावुक होकर कार्यकर्ता निकले कमरे से

समीक्षा के दौरान कोलारस, शिवपुरी व पिछोर के कई पदाधिकारी जब सिंधिया से बंद कमरे में चर्चा के बाद बाहर निकल रहे थे तो वे भावुक नजर आए। कुछ तो बाहर निकलते समय आंसू तक पोंछते दिखे। कार्यकर्ता ये समझ नहीं पा रहे थे कि चूक कहां हुई और हुई तो उसका समय रहते पता लगाने में नाकामयाब क्यों रहे।

टिकट पर भी खड़े किए सवाल

कई वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने हार के कारणों में विधानसभा चुनाव के दौरान सिंधिया कोटे से दिए गए टिकिट चयन पर भी सवाल खड़े किए। उनका कहना था कि खासतौर पर शिवपुरी विस सीट पर जिस तरह अप्रत्याशित ढंग से कांग्रेस के पुराने व अनुभवी नेताओं का दरकिनार कर नए चेहरे को टिकट दे दिया गया उससे भी कांग्रेसी नेता व कार्यकर्ता हतोत्साहित हुए। जिसका नतीजा इस चुनाव में कार्यकर्ता स्तर से अपेक्षित प्रयास के अभाव के रूप में सामने आया।

गेट पर बैठे नजर आए कांग्रेस जिलाध्यक्ष

सिंधिया जिस कमरे में मुलाकात कर रहे थे, उस कमरे के बाहर कांग्रेस जिलाध्यक्ष बैजनाथ यादव बैठे नजर आए। उन्होंने बारी बारी से अंदर लोगों को जाने दिया। किसी बात को लेकर उनके और पूर्व मंत्री भैया साहब लोधी के बीच कुछ गर्म बात भी हुई बाद में सिंधिया के निज सचिव ने बीच बचाव किया। सबसे आखिर में सिंधिया से मुलाकात के लिए मौजूद कांग्रेस नेताओं को 10-10 की संख्या में अंदर भेजा गया। प्रभारी मंत्री इस दौरान जनसंपर्क कार्यालय भी आए। उनके साथ एसपी राजेश सिंह चंदेल भी मौजूद थे। मंत्री ने एक तरफ ले जाकर एसपी से बात की। वहीं कुछ आवेदक भी मंत्री को घेरे दिखाई दिए, जिनसे आवेदन लेकर मंत्री ने संबंधित को भेज दिए। धूप के चलते मंत्री छाता लगाए नजर आए।

अंदर कमरे में सिंधिया मुलाकात कर रहे थे और बाहर मौजूद कांग्रेस जिलाध्यक्ष बैजनाथ यादव और पूर्व मंत्री भैया साहब लोधी आपस में बात करते हुए।

बांबे कोठी पर मंत्रियों से अलग-अलग की चर्चा

शिवपुरी। सिंधिया बीती देर रात शिवपुरी आ गए थे और बांबे कोठी पर रात्रि विश्राम किया जिसके बाद सोमवार की सुबह मंत्रियों से कोठी पर ही अलग अलग बातचीत की। रात को ही उन्होंने संकेत दे दिए थे कि महेन्द्र सिसोदिया, प्रद्युमन तोमर, इमरती देवी से वे सुबह बात करेंगे। सुबह करीब 1 घंटे से अधिक देर तक वह मंत्रियों से मंत्रणा करते रहे। हालांकि इस दौरान क्या बात हुई यह अंदर की बात बाहर नहीं आ सकी है। इधर मीडिया से बात करते हुए प्रभारी मंत्री प्रघुमन तोमर ने कहा कि सिंधिया शहर की आवाम को जल्द सिंध का पानी पिलाना चाहते थे। पूरे प्रयास करके पानी शहर भी आ गया लेकिन विपक्ष ने ऐसा झूठ फैलाया कि जनता उनके झांसे में आ गई। उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि वे लोग झूठ को बार बार कहते हैं जोर से कहते हैं जिससे लोग भ्रम में फस जाते हैं। उन्होंने कहा कि 15 साल की काई को हम सब मिलकर दूर करेंगे और शिवपुरी को एक नई विकास की धारा से जोड़ेगे। उन्होंने कहा कि कल बैठक ली थी और फिर से बैठक लेने आ रहा हूं। यह सिलसिला तब तक चलेगा जब तक शहर की समस्याएं दूर नहीं हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि सिंधिया के साफ निर्देश हैं कि शहर के लोगों को किसी तरह की परेशानी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने बताया कि कल पोहरी चौराहे पर जिस गड्ढे को बंद करने के निर्देश दिए थे आज वह बंद हो गया है। यदि ऐसा न होता तो दोषियों पर केस दर्ज कराकर ही रहता।

-------------

सांसद भले ही नहीं हूं पर जनसेवक था और आखिरी सांस तक रहूंगाः सिंधिया


हार के बाद पहली बार शिवपुरी आए सिंधिया ने मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि प्रजातंत्र में जनता भगवान है। जनता का जनादेश सिर माथे पर है। मैं इसे स्वीकार करता हूं। जनता के प्रति मेरी प्रतिबद्धता थी और रहेगी। भले ही मैं अब सांसद नहीं हूं, लेकिन इस क्षेत्र के लिए सांसद से ज्यादा मैं खुद को जनसेवक की भूमिका में देखता हूं और आखिरी सांस तक जनसेवक रहूंगा।

सिंधिया से जब पूछा गया कि क्षेत्र के लिए आपको विकास का मसीहा माना जाता है, बावजूद हार क्यों हुई। सिंधिया का कहना था कि ये लंबे विश्लेषण का विषय है, लेकिन यह तय है कि कमियां जरूर रही होंगी, मैं मतदाता और अन्नादाता को हमेशा भगवान मानता हूं। अंतरआत्मा से यह बात कहता हूं कि कमियों को ढूंढ़कर सुधार करेंगे। पहले स्वयं की कमियों को ढूंढूंगा, फिर संगठन की कमियों को भी तलाशेंगे। उसके बाद जनता के बीच फिर जाऊंगा। मुझे यकीन है कि जनता का विश्वास फिर हमारे साथ होगा और हम जीतेंगे, हार का कोई एक कारण नहीं है

शिवपुरी, 10 जून 2019/ मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा शिवपुरी टूरिज्म प्रमोशन काउंसिल के साथ जिले में कैरियर काउंसिलिंग द्वारा एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन 17 जून 2019 को प्रातः 10 बजे से गांधी पार्क मानस भवन, शिवपुरी में आयोजित की जाएगी। जिले के कक्षा 12वीं में औसतन कम मार्कस लाने वाले सभी विद्यार्थियों के अभिभावकों से अनुरोध है कि वे अपने बच्चों को उचित कैरियर मार्गदर्शन प्राप्त करने हेतु कार्यशाला में भेजें। जिससे विद्यार्थियों द्वारा अपने भविष्य की नई राह का चुनाव किया जा सके।
अनुविभागीय अधिकारी एवं नोडल अधिकारी जिला पर्यटन संवर्धन परिषद शिवपुरी अतेन्द्र सिंह गुर्जर ने बताया कि कैरियर काउंसिलिंग माध्यम से विद्यार्थियों को पर्यटन विभाग द्वारा स्थापित आई.एच.एम.ग्वालियर द्वारा ऐसे प्रशिक्षणार्थियों को कैरियर संबंध में उचित मार्गदर्शन प्रदान किया जाएगा तथा मध्यप्रदेश के विभिन्न संस्थानों डिप्लोमा, डिग्री कोर्सेज एवं सर्टिफिकेट कोर्सेज में प्रवेश दिलाकर पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार मुहैया कराने में सहयोग प्रदान किया जाएगा। 12वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम घोषित होने के उपरांत कम अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को अपने कैरियर के चुनाव में कठिनाई उत्पन्न होती है तथा विद्यार्थी अपने कैरियर से भटक कर दिशाहीन कोर्सेज में दाखिल लेकर पछतावा का अनुभव करते है। 
यह एक रोजगारोन्मुखी पाठ्यक्रमों में सीधे प्रवेश का माध्यम है, परंतु औसत अंक प्रापत करने वाले विद्यार्थियों को इसकी जानकारी न होन के कारण वे इसके व्यापक लाभ से वंचित रह जाते है एवं अनावश्यक काॅलेज एवं संस्थानों में दिशाहीन कोर्सेज में दाखिला लेकर अपना भविष्य अंधकार मय बना लेते है। मध्यप्रदेश शासन द्वारा इस कार्यशाला के आयोजन का मुख्य उद्देश्य यह है कि इस कार्यशाला में आने वाले विद्यार्थियों का काउंसिलिंग कर रूचि एवं योग्यतानुसार विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए प्रेरित किया जाएगा। मध्यप्रदेश पर्यटन विभाग द्वारा संचालित संस्थाओं जैसे-एफसआई, एसआईएचएम, आईएचएम, एमपीआईएचटीटीएस आदि में उपलब्ध कोर्सेज एवं पर्यटन के क्षेत्र में उपलब्ध कैरियर की संभावनाओं के अवसर की जानकारी अधिक से अधिक विद्यार्थियों तक पहुंचाकर उन्हें लाभाविंत करना है। 
इस कार्यशाला में जिला प्रशासन के सहयोग से विद्यार्थियों के लिए इवेन्ट ले-आउट काउंसिलिंग प्रपत्र, काउंसिलिंग स्टाॅल एवं अन्य व्यवस्थाएं की गई है। इस कार्यशाला के दौरान छात्रों को रजिस्ट्रेशन फार्म प्रदाय किया जाएगा तथा उनका पंजीयन कराया जाएगा। इसके उपरांत उनका काउंसिलिंग किया जाकर उन्हें उचित मार्गदर्शन प्रदान किया जाएगा। 

MARI themes

Blogger द्वारा संचालित.