चांद के टुकडा बैनर तले , कल काली माता मंदिर में एक काव्य कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया यह आयोजन जीतेंद्र रघुवंशी,  टिंकल झा, कुनाल भार्गव, सोनू झा (बाबा) ,गगन ओझा के मार्गदर्शन में किया गया। जिसमे निम्न कवियो ने अपनी रंगारग प्रस्तुती दी
कार्यक्रम की होस्ट रीया माथुर ने
बेटियों पर होने वाले अत्याचार को बखूबी बयान किया   अपनी जन्नत उस ईश्वर के घर बसाऊंगी, बाबा अभी तो मैं छोटी हूं मैं तेरे सपनों को कैसे पूरा कर पाऊंगी, छोड़ेंगे ना वह हैवान जिनके मन में मुझे खाने की हवस भर जाएगी। रिया मथुर ने आज बच्चीओ के उपर हो रहे आत्याचार का के बारे मे बताया साथ ही
को -होस्ट दिव्या भगवानी ने
कहा कि, मेरी भी कोई पहचान हो इस बात में दम है क्या?
जिससे पहचान हो सकी इंसानियत की ऐसा कोई निशान है क्या ? इंसान को इंसानियत याद दिलाने कि कोशीश की

कवित्री अपूर्व श्रीवास्तव ने नारी की शक्ति के बारे में बताते हुए कहा कि नारी ही दुर्गा है नारी ही काली है।
नारी..
नारी जो कभी किसी परिस्थितियों मे न हारी..
कभी धूप तो कभी छाव बन जाती है
वो नारी घर जो स्तंभ कहलाती है

वो रावण को दोषी कहते वक़्त
न याद उसकी साफ नियत समझ आयी..
राम को सीता पवित्र मिली,
रावण की थी ये सच्चाई..
नारी कि महंता का वर्णन किया साथ ही रावण कि सच्चाई से लोगो को अवगत कराया
प्रियंका राजपूत ने कहा
मां पापा की लाडली हूंँ मैं
एक क्यारी हूंँ मैं। कविता के मध्यम से बताया कि बेटी पापा कि परी होती है
मयंक राठौर ने बताया
प्यारी धरती न्यारी धरती
कविता बोलते हुए धरती मां के महत्व को बताया।
आशीष शर्मा ने कहा सुनो कागज पर आज एक बात लिखता हूंँ
नहीं लिखता कविता और गजल बस अपने जज्बात लिखता हूंँ

जीतेंद्र रघुवंशी ने कहा
हैरान हूं मैं लोगों का कातिलाना अंदाज देखकर परेशान हूं मैं अपनों का अपनो पर वार देख कर ने कविता के मध्यम से अपने लोग ही आज अपने दुश्मन बन गये कविता के मध्यम से अवगत कराया
अभय जाट ने मनुष्य के बारे में बहुत ही खूबसूरत बातें कहीं। इन कवियो कि कविताये सुनकर लोगो का मन प्रसन्न  हो गया


*शिवपुरी* विगत 4 वर्षों से लगातार सुंदरकांड कर धर्म जागरण का काम करने जानकी सेना संगठन का 215 वा सुंदरकांड जानकी सेना संगठन के अध्यक्ष विक्रम सिंह रावत के घर पर धूमधाम से संपन्न हुआ कार्यक्रम की शुरुआत में सर्वप्रथम 4 बजे सुंदरकांड का आयोजन किया गया जो पूरे 3 घंटे चला और 7 बजे से  मंच के माध्यम से मुख्य अतिथियों का माल्यार्पण कर स्वागत किया गया स्वागत बेला के बाद सभी मुख्य अतिथियों का  जानकी सेना के संदर्भ में उद्बोधन हुआ  उद्बोधन के बाद सभी जानकी सेना सदस्यों  सम्मान पत्र देकर स्थाई सदस्यता   मुख्य अतिथियों के हाथों दिलवाई  गई आपको बता दें कि जानकी सेना संगठन पिछले 4 वर्षों में अभी तक 215 सुंदरकांड करा चुका है और बृहद होते संगठन में अभी तक 1140 सदस्य शामिल किए जा चुके हैं  जानकी सेना संगठन मैं सदस्यता पूरी तरह निशुल्क है, जानकी सेना संगठन का उद्देश्य धर्म जागरण के साथ पर्यावरण संरक्षण एवं लोगों में आपसी मेल मिलाप की भावना को जागृत करने के अलावा समाज में लुप्त होते धर्म प्रसार को चेतन रखते हुए नव युवाओं में नवचेतना के साथ संतो के मार्गदर्शन में भारतीय संस्कृति को जीवित रखने का माध्यम बताया गया है हमारे संवाददाता से बातचीत करते हुए विक्रम रावत ने बताया कि आज से 4 साल पहले एक छोटे से कमरे में बैठक के दौरान इस जानकी सेना संगठन  की शुरुआत की गई थी आज धीरे-धीरे यह संगठन शिवपुरी जिले भर में सुंदरकांड कराता आ रहा है हैं चाहे ग्रामीण स्तर हो या शहरी क्षेत्र सभी जगह  जानकी सेना संगठन के सदस्य बिना किसी परवाह किए पहुंचते हैं आज इस संगठन को पूरे 4 वर्ष हो चुके हैं इसलिए वर्षगांठ के साथ ही  यहां पर सभी सदस्यों का सम्मान किया गया है कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में महामंडलेश्वर पुरुषोत्तम दास जी महाराज ,आचार्य विनय कटारे, केदारनाथ समाधिया,राज्य मंत्री दर्जा  राजू बाथम,अंगद सिंह तोमर,   जानकी सेना महिला अध्यक्ष गिरजा सोनी, कल्याण सिंह यादव बंटी भैया,बृजेश शालू  गोस्वामी ,मनोज गुरु,एडवोकेट गजेंद्र यादव एवं रावत समाज के अध्यक्ष यशपाल  रावत मौजूद थे I
संजय आजाद
*जानकी मां प्रदान करती हैं शक्ति का वरदान: महामंडलेश्वर पुरुषोत्तम दास*
  जान की सेना के 4 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष में  संगठन के सदस्यों को  आशीर्वाद देने पहुंचे  महामंडलेश्वर पुरुषोत्तम दास जी महाराज  ने उद्बोधन के दौरान रामायण का सुंदर प्रसंग सुनाते हुए कहा गया कि जानकी मैया शक्ति प्रदान करने वाली है मां जानकी के वरदान से ही पवनसुत हनुमान ने वह कार्य कर दिखाएं जो सपने में भी संभव नहीं है प्रसंग सुनाते हुए उन्होंने कहा कि जिस समय लक्ष्मण जी को शक्ति लगी तब पता चला कि लक्ष्मण शक्ति का सीधा संबंध सूर्य की किरणों से है यदि सूर्य की किरण लक्ष्मण जी पर पड़ गई तो उन्हें बचाना असंभव होगा यह बात सुनते ही हनुमान जी ने प्रभु की आज्ञा लेकर तुरंत अतितीव्र गति से सूर्य की ओर प्रस्थान कर दिया और कुछ ही देर बाद पहुंच गए और उन्होंने देखा कि सूर्य देवता की दोनों आंखों से अश्रु धारा बह रही है कारण पूछने पर सूर्य देव ने बताया कि मुझे रावण ने धमकाया है यदि मैं आज समय से पहले नहीं निकला तो वह मुझे खत्म कर देगा इतना सुनते ही हनुमान जी ने कहा कि तुम  रावण को मेरा नाम लेकर कहो कि हनुमान जी कह रहे हैं यदि आज समय से निकला तो वह मेरा सर्वनाश कर देंगे यह बात जब रावण को पता चली तो उसने  सूर्य की बात को सुनकर कह दिया ठीक है तुम्हें जो करना है करो तो ऐसे प्रभु श्री राम के भक्त हनुमान ने जो कार्य किए हैं वह जानकी मां के वरदान का ही प्रताप है और आज जान की सेना संगठन समाज में धर्म जागरण का कार्य कर रही है वह अतुलनीय है

9 अक्टूबर को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष  अमित शाह ग्वालियर  संभाग दौरे पर आ रहे हैं इस दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह   शिवपुरी मे भाजपा  पालक संयोजको की बैठक लेंगे
प्रभारी मंत्री रुस्तम सिंह ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के आगामी कार्यक्रम को लेकर हेलीपैड सहित कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया एंव आवश्यक दिशा निर्देश दिए इस दौरान संगठन मंत्री देवेंद्र भार्गव, किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रणवीर रावत, भाजपा जिला अध्यक्ष सुशील रघुवंशी, जिला महामंत्री ओमीगुरु   मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष राजू बाथम, बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष  राघवेंद्र शर्मा कार्यसमिति सदस्य नरेंद्र बिरथरे  प्रदेश कार्यसमिति सदस्य अजीत जैन, युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष मुकेश चौहान जिला महामंत्री राजकुमार खटीक, आलोक बिंदल दिलीप मुद्गल, मीडिया प्रभारी राकेश राठौर अमित भार्गव युवा मोर्चा जिला मंत्री प्रतीक शर्मा, , ओमी जैन, जनडेल सिंह गुर्जर  मौजूद रहे!

शिवपुरी प्रभारी मंत्री रुस्तम सिंह ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के आगामी कार्यक्रम को लेकर भाजपा कार्यालय पर ली बैठक  इस दौरान संगठन मंत्री देवेंद्र भार्गव, किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रणवीर रावत,  मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष राजू बाथम, कार्यसमिति सदस्य नरेंद्र बिरथरे  प्रदेश कार्यसमिति सदस्य अजीत जैन, युवा मोर्चा जिला महामंत्री राज कुमार खटीक जिला अध्यक्ष मुकेश चौहान मीडिया प्रभारी राकेश राठौर युवा मोर्चा जिला मंत्री प्रतीक शर्मा, , ओमी जैन, जनडेल सिंह गुर्जर  मौजूद रहे!



अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की मांग तेज हो गई है। सरकार पर हर तरफ से दबाव आने लगा है। आमरण अनशन, अयोध्या कूच और अदालती निर्णय के इंतजार बीच कुछ और फैसले हिन्दू संगठनों ने लिए हैं जिनके अर्थ सरकार को समझना चाहिए। हाल में आये सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ये बात साफ हो गई है कि अब इसमें जमीन विवाद की सुनवाई होगी लेकिन सुनवाई कैसे चलेगी, आगे का रास्ता क्या होगा और विवाद का अंत कब होगा, ये मुख्य सवाल अभी तक वहीँ के वहीँ खड़े हैं। सरकार अभी चुप है।

विश्व हिंदू परिषद की बैठक दिल्ली में खत्म हो गई। जिसमें फैसला लिया गया है कि केंद्र में काबिज मोदी सरकार पर अयोध्या में राम मंदिर के लिए कानून बनाने का दबाव डाला जाए। परमहंस के अनशन व तोगड़िया के अयोध्या कूच के बीच शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अयोध्या आकर राम मंदिर की ईंट रखने का ऐलान कर दिया है। महंत जन्मेजयशरण ने उद्धव ठाकरे से मुलाकात की। इस दौरान राममंदिर मुद्दे पर वृहद चर्चा हुई है। ठाकरे ने उन्हें आश्वासन दिया है कि दशहरा के बाद ठाकरे शिवसैनिकों के साथ अयोध्या की ओर कूच करेंगे। अयोध्या आने की तिथि दशहरा सम्मेलन में उद्धव ठाकरे घोषित करेंगे।

आमरण अनशन के पांचवें दिन किन्नर समाज के लोगों ने अयोध्या की तपस्वी छावनी में पहुंचकर अनशन कर रहे परमहंस दास से मुलाकात की। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जल्द से जल्द राम मंदिर निर्माण की मांग की। किन्नरों ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि “मंदिर बना दो सरकार वरना अच्छा नहीं होगा।

विश्व हिन्दू परिषद की बैठक में हिस्सा ले रहे संतों ने मांग की है कि केंद्र सरकार जल्दी ही राम मंदिर के निर्माण के लिए अध्यादेश लाये और अगले संसद के सत्र में अध्यादेश पर क़ानून बनाये। उनका कहना है कि इसी सरकार के समय गोरक्षा का कानून बने, धारा 370 हटे, समान नागरिक संहिता का कानून बने और लेकिन अभी श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर का निर्माण  प्राथमिकता है, अब कोई देरी में इसमें स्वीकार नहीं है। दूसरी और संतो की उच्चाधिकार समिति की बैठक में कई संतो ने राम मंदिर के निर्माण पर केंद्र सरकार के रूख पर नाराज़गी जताई और कहां कि अगर केंद्र सरकार अगर कोर्ट में लंबित होने के बाद एस सी एस टी एक्ट को संसद से क़ानून बना सकती है, ट्रिपल तलाक़ बिल पर अध्यादेश ला सकती हैं तो राम मंदिर के निर्माण के लिए अध्यादेश क्यों नहीं ला सकती है? प्रश्न वाजिब है।

३१  जनवरी और १  फरवरी को इलाहाबाद  कुंभ में विश्व हिन्दू परिषद एक धर्म संसद आयोजित करेगी| जिसमें ३०  हजार संत शामिल होंगे. अध्यादेश न आने पर वहीं आगे की रणनीति तय करेंगे|  विश्व हिन्दू परिषद का कहना है कि “हमने कोर्ट के फैसले का इंतजार सितंबर तक किया है, लेकिन अब देर हो रही है| वहीं इशारों में राहुल गांधी पर भी निशाना साधते हुए कहा कि 'जनेऊधारी' भी हमारा समर्थन करें| कांग्रेस तो इस मुद्दे को लपकने को तैयार है, इंतजार सरकार के जवाब का है |

15:28 (IST)

पांचों राज्यों के विधानसभा चुनाव के वोटों की गिनती एक साथ 11 दिसंबर को होगी. 


15:27 (IST)

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि एमपी और मिजोरम की तरह ही राजस्थान और तेलंगाना में भी एक ही चरण में वोटिंग होगी. यहां एक साथ 7 दिसंबर को वोटिंग होगी.


15:26 (IST)

मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि मध्यप्रदेश की 230 विधानसभा सीटों पर और मिजोरम की 40 सीटों के लिए एक साथ 28 नवंबर को एक ही चरण में वोटिंग होगी.


15:22 (IST)

छत्तीसगढ़ की 90 विधानसभा सीटों पर 2 चरणों में मतदान होगा. पहले चरण का मतदान छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों की 18 सीटों पर 12 नवंबर को मतदान होंगे. वहीं अन्य सीटों पर 20 नवंबर में चुनाव होंगे.


15:16 (IST)

रावत ने कहा कि एमपी, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में आज से यानी 6 अक्टूबर से ही चुनावी आचार संहिता लागू हो जाएगी. उन्होंने कहा कि चारों राज्यों में चुनाव की पूरी प्रक्रिया 15 दिसंबर तक पूरी कर ली जाएगी. तेलंगाना में चुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि इलेक्शन रोल के अपडेशन में देरी के चलते फिलहाल तेलंगाना में चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि तेलंगाना चुनाव की तारीखों की घोषणा 12 अक्टूबर को की जाएगी.


15:12 (IST)

मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में एक साथ चुनाव कराए जाएंगे. तेलंगाना में चुनाव के तारीखों की घोषणा 12 अक्टूबर को होगीः ओपी रावत


14:47 (IST)

पीएम मोदी ने कहा कि राजस्थान की परंपरा बन गई थी की एक बार भाजपा एक बार कांग्रेस लेकिन अब राजस्थान ने फैसला कर लिया है फिर एक बार बीजेपी.


14:45 (IST)

अजमेर में पीएम मोदी ने कहा कि भाजपा की सरकारों की, हमारी कार्य संस्कृति का अगर लेखा-जोखा करना है तो करके देखिए. सबका साथ-सबका विकास, सर्वजन हिताय-सर्वजन सुखाय इस मंत्र की ताकत का उसमें भारत की उज्जवल भविष्य का संकल्प कैसे प्रदर्शित होता है.


14:34 (IST)

पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने एमएसपी की लंबी लंबित मांग को पूरा क्यों नहीं किया? यह हमारी सरकार थी जिस पर हमने सोचा और कार्रवाई की. उन्होंने कहा कि हमारी दिशा सही है, हमारी नीति स्पष्ट है, हमारी नीयत पर कोई शक नहीं कर सकता और हम जिस दिशा में जा रहे हैं हम मेहनत करने में कमी नहीं रखते है.


14:31 (IST)

पीएम मोदी ने कहा, सर्जिकल स्ट्राइक मेरे देश वीर जवानों का बहुत बड़ा पराक्रम था. कौन हिंदुस्तानी होगा जिनको हमारे वीरों पर गर्व न हो. क्या हो गया है कांग्रेस पार्टी को, क्या राजनीति ने आप लोगों को इतना नीचे धकेल दिया है.पीएम मोदी ने कहा कि हमारे लिए सवा सौ करोड़ देशवासी ही हमारा परिवार है.


14:31 (IST)

अजमेर में पीएम मोदी ने कहा कि पहले आपने सर्जिकल स्ट्राइक का अपमान करने की कोशिश की और जब पराक्रम पर्व करके देश के युवा पीड़ी को प्रेरणा मिल रही थी तो उसमे भी आपको गन्दी हरकत करने से बाज नहीं आये.


14:28 (IST)

अजमेर में पीएम मोदी ने कहा कि एक स्वस्थ्य लोकतंत्र में विपक्ष की आवश्यकता होती है लेकिन हमारे पास ऐसे लोग है जो  न केवल 60 साल की सरकार चलाने में विफल रहे बल्कि बतौर विपक्ष भी फेल हुए हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस, तथ्यों पर चुनाव क्यों नहीं लड़ती? वे झूठ फैलाने में क्यों व्यस्त रहते हैं?


14:26 (IST)

मुरैना में राहुल गांधी | नोटबंदी की पूरा देश लाईन में खड़ा हुआ. हिंदुस्तान के सबसे अमीर लोगों का काला धन सफेद में बदला गया, कोई जेल नहीं गया. मगर 15 लाख रुपये किसी भी गरीब को नहीं मिला. आदिवासियों को जल, जंगल, जमीन का फायदा मिलना चाहिए. जैसे ही मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की सरकार आयेगी हम ट्राईबल बिल को लागू करके दिखायेंगे.


14:24 (IST)

मुरैना में राहुल गांधी | मनरेगा की पूरी शक्ति पंचायत में थी. मोदी सरकार आयी और पंचायतों को कमजोर कर दिया. भाजपा के लोगों ने पूरे देश में पंचायती राज के ढांचे पर ही आक्रमण कर दिया. कांग्रेस ने उस समय मनरेगा को चलाने के लिये 35 हजार करोड़ रुपये दिये. नीरव मोदी हिंदुस्तान के बैंकों से 35 हजार करोड़ रुपये चोरी करके भाग गया और उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई.


14:20 (IST)

पीएम मोदी ने कांग्रेस पर आरोप लगाए. उन्होंने कहा एक ही परिवार की आरती उतराना कांग्रेस की फितरत है. विपक्ष बहस से घबराता है, मैदान छोड़कर भाग जाता है.  हमारा हाईकमान राजस्थान की साढ़े सात करोड़ जनता, कांग्रेस का हाईकमान एक परिवार है.


मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और मिजोरम में आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर चुनाव आयुक्त ओपी रावत राजधानी दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ पीएम मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल वोटर्स को रिझाने में जुटे हुए हैं. पीएम मोदी ने शनिवार को अजमेर से चुनावी शंखनाद किया तो राहुल गांधी मध्य प्रदेश  दौरे पर हैं.इस बीच कांग्रेस ने चुनाव आयोग पर आरोप लगाया है कि पीएम मोदी की रैली को देखते हुए तारीखों की घोषणा का वक्त बदला गया है. इस पर चुनाव आयोग से जुड़े सूत्रों ने कहा कि पत्रकारों ने शिकायत की थी कि वे इतने कम वक्त में प्रेस वार्ता में शामिल नहीं हो पाएंगे, इस वजह से समय आगे बढ़ाया गया है.

मध्य प्रदेश का समीकरण

मध्य प्रदेश में कुल 231 विधानसभा सीटें है. हालांकि इनमें से 230 सीटों पर ही चुनाव होते हैं और बाकी सदस्य को नामित किया जाता है. 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 166, कांग्रेस को 57, बसपा को 4 और अन्य को तीन सीटें मिली थी.

MP में ये पार्टियां मैदान में

मध्य प्रदेश में की सियासी लड़ाई कांग्रेस और बीजेपी के बीच मुख्यरूप से है. इसके अलावा बसपा राज्य में एक बड़ी ताकत है. हालांकि इस बार इन तीनों पार्टियों के अलावा भी कई पार्टियां मैदान में उतरने की तैयारी में है. इनमें समाजवादी पार्टी, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी और जयस जैसे संगठन शामिल हैं. एससीएसटी एक्ट और प्रमोशन में आरक्षण के खिलाफ सपाक्स की 'अनारक्षित समाज पार्टी' ने  भी चुनाव लड़ने का ऐलान किया है.

राजस्थान में कुल सीटें

राजस्थान में विधानसभा की कुल 200 सीटें हैं, साल 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी 163 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी. जबकि कांग्रेस 21 सीटों पर सिमट गई. बसपा को 3, NPP को 4, NUZP को 2 सीटें मिली थीं. जबकि 7 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार जीते थे.

राजस्थान के रण में सियासी दल

राजस्थान में मुख्यरूप में कांग्रेस और बीजेपी के बीच मुकाबाल है. इन दोनों दलों के अलावा भी कई क्षेत्रीय पार्टियां भी अपनी किस्मत आजमा रही हैं. बसपा और नेशनल पीपल्स पार्टी के अलावा घनश्याम तिवाड़ी ने बीजेपी से बगावत कर अलग भारत वाहिनी पार्टी बनाई है. इसके अलावा निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल ने भी अपने समर्थकों को चुनाव में उतारने का मन बनाया है.

छत्तीसगढ़ का सियासी समीकरण

छत्तीसगढ़ में कुल 90 विधानसभा सीटें हैं. 2013 में विधानसभा चुनाव बीजेपी को 49, कांग्रेस को 39, बसपा को 1 और अन्य को एक सीट मिली थी. रमन सिंह की अगुवाई में बीजेपी ने पिछले चुनाव में लगातार तीसरी बार कांग्रेस को मात देकर सरकार बनाई थी. छत्तीसगढ़ में कुल 27 जिले हैं. राज्य में कुल 51 सीटें सामान्य, 10 सीटें एससी और 29 सीटें एसटी के लिए आरक्षित हैं.

ये पार्टियां मैदान में

छत्तीसगढ़ के सियासी रणभूमि में बीजेपी और कांग्रेस के बीच मुख्य मुकाबला है. हालांकि इस बार इन दोनों दलों के अलावा कांग्रेस के बगावत कर अजीत जोगी ने छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस-जोगी नाम से पार्टी बनाई है और उन्होंने बसपा से गठबंधन किया है. इसके अलाव गोंडवाना गणतंत्र पार्टी भी मैदान में है.

मिजोरम में कुल सीटें

पूर्वोत्तर के मिजोरम में कुल 40 विधानसभा सीटे हैं. 2013 के विधानसभा चुनाव में इन 40 सीटों में से कांग्रेस को 34, एमएनएफ को 5 और और एमपीसी को 1 सीट मिली थी. हालांकि इस बार इन तीनों दल के अलावा बीजेपी भी मैदान में अपनी किस्मत आजमाएगी.

तेलंगाना की सियासी समीकरण

तेलंगाना में कुल 119 विधानसभा सीटें हैं. पिछली बार राज्य के विधानसभा चुनाव 2014 के लोकसभा चुनाव के साथ हुए थे. लेकिन मुख्यमंत्री केसीआर ने समय से पहले विधानसभा भंग करने की सिफारिश कर दी थी, जिसके विधानसभा चुनाव हो सकते हैं.

2014 के विधानसभा चुनाव में राज्य की 119 सीटों में से केसीआर की पार्टी टीआरएस को 90 सीटें मिली थी. जबकि कांग्रेस को 13,  ओवैसी की पार्टी AIMIM को 7, बीजेपी को 5, टीडीपी को 3 और सीपीआईएम को 1 सीट मिली थी. इन बार भी इन्हीं पार्टियों के बीच मुकाबला है.

धूल भरी आंधी के बीच पीएम मोदी कुछ देर बोलते रहे और इसके बाद उन्होंने कहा कि प्रकृति भी हमारा साथ देने के लिए आई है. विजय की आंधी भी चल पड़ी है और जब धरती माता आशीर्वाद देने आती है तो विजय निश्चित हो जाती है.

तेज हवाओं के बीच मोदी को रोकना पड़ा भाषण, बोले- विजय की आंधी है

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की गौरव यात्रा के समापन के अवसर पर प्रधाननमंत्री नरेंद्र मोदी आज अजमेर पहुंचे. वसुंधरा राजे ने बीते 4 अगस्त को राजसमंद से इस यात्रा की शुरुआत की थी, जिसके समापन समारोह में आज पीएम मोदी अजमेर के कायड़ पहुंचे. इस दौरान पीएम मोदी ने अपने संबोधन की शुरुआत में वसुंधरा राजे को राजस्थान की लोकप्रिय और यशस्वी मुख्यमंत्री बताते हुए जनता के बीच जाने की तारीफ की.

आंधी के बीच खत्म करने पड़ी रैली

पीएम मोदी जब भाषण दे रहे थे तो अचानक वहां तेज हवा चलने लगी. धूल भरी आंधी के बीच पीएम मोदी कुछ देर बोलते रहे और इसके बाद उन्होंने कहा कि प्रकृति भी हमारा साथ देने के लिए आई है. विजय की आंधी भी चल पड़ी है और जब धरती माता आशीर्वाद देने आती है तो विजय निश्चित हो जाती है. ऐसा कहते हुए पीएम मोदी ने अपना भाषण खत्म कर दिया.

इससे पहले चुनाव में अधिक समय देने की बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी की अपील पर पीएम मोेदी ने कहा, 'मैं वही नरेंद्र मोदी हूं जो कभी हमारे सैनी जी के साथ स्कूटर पर बैठकर संगठन का काम किया करता था. देश और दुनिया के मैं भले ही प्रधानमंत्री हूं, लेकिन बीजेपी के लिए मैं एक कार्यकर्ता हूं. मुझे छोटे से बूथ पर भी बुलाया जाएगा तो मैं आऊंगा.'

वोट बैंक पर चोट

मोदी ने अपने संबोधन में वोट बैंक की राजनीति पर चोट करते हुए विपक्षियों को आड़े हाथों लिया. उन्होंने कहा, 'एक तरफ वोट बैंक की राजनीति का खेल है, जबकि दूसरी तरफ सबका साथ सबका विकास है. इस राजनीति में जमीन-आसमान का फर्क होता है. जो वोट बैंक की राजनीति करते हैं, वो कभी हिंदू-मुस्लिम करते हैं, कभी अगले-पिछड़े का खेल करते हैं, कभी अमीर-गरीब, कभी बुजुर्ग-युवा...यानी जहां मौका मिले एक दूसरे को सामने कर दो और एक को गले लगाकर राजनीति कर लेंगे. तोड़ना सरल होता है और जोड़ने के लिए जिंदगी खपानी पड़ती है और हम जोड़ने वाले हैं.'

कांग्रेस में सिर्फ एक परिवार की चिंता

वसुंधरा राजे के उस बयान पर भी मोदी ने अपनी राय रखी, जिसमें उन्होंने कहा था कि विपक्षी नेता चुनावी मौसम में अचानक बाहर निकल आए हैं. इस पर पीएम मोदी ने गांधी परिवार और कांग्रेस नेताओं पर तंज कसा. उन्होंने कहा, 'कांग्रेस के नेताओं की राजनीति एक परिवार की आरती करने से चल जाती है. उनका हाई कमान एक परिवार है और हमारा हाई कमान प्रदेश की जनता है. इसलिए परिवार की पूजा करने वालों से राजस्थान की जनता को कोई उम्मीद नहीं है.'

चुनाव में बीजेपी को जिताने की अपील करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि बड़ी मुश्किल से 60 साल बाद देश ने गति पकड़ी है, अब उन्हें यहां देखने का मौका भी नहीं देना है. उन्होंने ये भी कहा कि लोकतंत्र में मजबूत विपक्ष होना चाहिए.  लेकिन दुर्भाग्य है कि कांग्रेस 60 साल सत्ता में विफल होने के बाद अब विपक्ष में भी विफल हो गए हैं.

13 लाख परिवारों को बिजली

राजस्थान में 13 लाख परिवार ऐसे थे जो 18वीं शताब्दी में अंधेरी नगरी में जीवन जीने को मजबूर थे. हमने हर गांव और हर घर में बिजली पहुंचाने का बीड़ा उठाया, जिसे लागू करते हुए वसुंधरा राजे सरकार ने करीब 13 लाख परिवारों को बिजली पहुंचाने का काम पूरा कर दिया.

पीएम मोदी के संबोधन से पहले मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने उनकी शान में जमकर कसीदे पढ़े. राजे ने कहा कि 50 साल कांग्रेस को मिले हैं, लेकिन जो 5 साल के अंदर हमने आज देखा है वह पहले हमें कभी देखने को नहीं मिला है. राजे ने कहा, 'आपके कुशल नेतृत्व में भारत विश्व में एक महाशक्ति के रूप में उभर कर आया है, जिसकी वजह से हम सब गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं.'

MARI themes

Blogger द्वारा संचालित.