स्मिथ-वॉर्नर बैन पर सचिन को घेरने की कोशिश कर रहे थे शेन वॉन, तेंदुलकर ने अपने अंदाज में दिया जवाब

मंथन न्यूज़ - पूर्व दिग्गज भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने बुधवार (28 मार्च) को बॉल टैंपरिंग मामले में तीनों ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों पर ऑस्ट्रेलिया (सीए) द्वारा लगाए गए प्रतिबंध का समर्थन किया है। सचिन का मानना है कि साउथ अफ्रीका के खिलाफ केप टाउन में तीसरे टेस्ट मैच में गेंद से छेड़छाड़ का दोषी पाए जाने पर ऑस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान स्टीव स्मिथ और उपकप्तान डेविड वॉर्नर पर 1 साल का प्रतिबंध लगाकर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने सही फैसला किया है। इसके साथ ही सचिन ने ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज स्पिन गेंदबाज शेन वॉर्न की उस पोस्ट का जवाब भी दे दिया है जिसमें उन्होंने सचिन को घेरने की कोशिश की थी। बता दें कि सीए ने जहां स्मिथ और वॉर्नर के आईपीएल में खेलने पर भी प्रतिबंध लगाया गया है, वहीं युवा सलामी बल्लेबाज कैमरन बेनक्रॉफ्ट को 9 महीने के लिए प्रतिबंधित किया गया है।
सचिन तेंदुलकर ने सीए द्वारा ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों पर लगाए गए प्रतिबंध के बारे में अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि ‘क्रिकेट सभ्य लोगों के खेल के रूप में जाना जाता है। इस खेल को माना जाता है कि यह साफ सुथरे तरीके से खेला जाता है।’ उन्होंने लिखा, ‘जो हुआ वो दुर्भाग्यपूर्ण है, लेकिन खेल की अखंडता को बनाए रखने के लिए सही फैसले लेना जरूरी है। जीत जरूरी है लेकिन आप किस तरह से जीतते हैं, यह ज्यादा मायने रखता है।’सचिन का यह ट्विट शेन वॉन की पोस्ट के बाद आया है। इससे पहले शेन वॉन ने फेसबुक पेज पर पोस्ट लिखते हुए स्मिथ-वॉर्नर पर लगे बैन पर कई बातें कहीं थीं, जिसमें सचिन तेंदुलकर का जिक्र करते हुए उन्होंने लिखा था कि ‘इस सीरीज में विरोधी टीम (द.अफ्रीका) के कप्तान फाफ डु प्लेसी को भी पहले ऐसे मामले में दो बार दोषी पाया गया था। जबकि उन्हीं के तेज गेंदबाज वर्नोन फिलेंडर को भी दोषी पाया गया था। जिन खिलाड़ियों पर आज तक गेंद से छेड़छाड़ के आरोप लगे हैं, उनकी लिस्ट काफी लंबी है और उसमें सचिन तेंदुलकर और माइक एथर्टन जैसे दिग्गजों के नाम भी शामिल हैं।’शेन ने इस पोस्ट के जरिए 17 साल पहले पोर्ट एलिजाबेथ में भारत-दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए टेस्ट मैच को लेकर सचिन पर निशाना साधा था। इस मैच में सचिन तेंदुलकर द्वारा गेंद की सीम साफ करने को लेकर मैच अंपायर माइक डेनिस ने उनपर एक मैच का प्रतिबंध और एक साल के निलंबिन की बात कही थी। हालांकि बाद में दोनों खिलाड़ियों पर लगे आरोप पूरी तरह साबित नहीं हुए थे और आईसीसी ने सचिन और गांगुली पर लगा प्रतिबंध का फैसला वापस ले लिया था। इसके बावजूद शेन वॉन की पोस्ट में सचिन तेंदुलकर का नाम लेना हैरान करने वाला है। हालांकि सचिन ने सीधे-सीधे तो नहीं लेकिन शेन को जवाब देते हुए बता दिया है कि उनके लिए खेल भावना सबसे ज्यादा मायने रखती है।