CBSE पेपर लीक मामला: पीएम मोदी ने प्रकाश जावड़ेकर से की बात, जताई नाराजगी

नई दिल्ली : सीबीएसई कक्षा दसवीं की गणित परीक्षा और कक्षा बारहवीं की अर्थशास्त्र की परीक्षा दोबारा आयोजित कराने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नाराजगी जाहिर की है. पीएम मोदी ने मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से इस मामले पर बातचीत भी की.  उधर, इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि किसी छात्र के साथ अन्याय नहीं होगा. परीक्षा की तारीखों का ऐलान जल्द होगा. परीक्षा लीक मामले की जांच होगी. यह जांच दिल्ली पुलिस करेगी.

जावड़ेकर ने आगे कहा पेपर का कुछ हिस्सा व्हाट्सऐप पर लीक हुआ था और हमने इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई है. जांच जारी है और सख्त कार्रवाई की जाएगी. हमने पेपर के वितरण के समय सुरक्षा और कड़ी करने का फैसला किया है. एचआरडी मंत्री जावड़ेकर ने आगे बताया कि परीक्षाएं पूरे देश में आयोजित की गई हैं लेकिन पेपर लीक की खबरें सिर्फ दिल्ली के कुछ स्कूलों से आई हैं. कैबिनेट द्वारा नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) के गठन को मंजूरी दी जा चुकी है जो अगले साल तक प्रभाव में आ जाएगी जो लीक-प्रूफ परीक्षा कराएगी.

सीबीएसई ने दी यह दलील
सीबीएसई ने परीक्षा फिर से लिए जाने के बारे में सर्कुलर जारी कर कहा कि इस बारे में तारीखों और अन्य जानकारी को बोर्ड की वेबसाइट पर उपलब्ध करवाया जाएगा. इसमें कहा गया, ‘‘जैसा की खबरों में आया है, कुछ परीक्षाओं के आयोजन में कुछ घटनाओं का बोर्ड ने संज्ञान लिया है. बोर्ड परीक्षाओं की शुचिता और निष्पक्षता को बनाए रखने के लिए और छात्रों के हित में बोर्ड ने उक्त विषयों की दोबारा परीक्षा लेने का फैसला किया है.’’  सर्कुलर में कहा गया कि दोबारा ली जाने वाली परीक्षाओं की तारीख की जानकारी हफ्तेभर के भीतर सीबीएसई की वेबसाइट पर डाली जाएगी.

गौरतलब है कि 12वीं इकनॉमिक्स की परीक्षा 27 मार्च और 10वीं गणित की परीक्षा 28 मार्च को हुई थी. सीबीएसई ने बताया है कि परीक्षा की तारीख की घोषणा एक सप्ताह के भीतर वेबसाइट पर कर दी जाएगी.  इस साल 5 मार्च से केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की दसवीं और बारहवीं की परीक्षाएं शुरू हुई थीं. इन परीक्षाओं में देशभर से 28 लाख, 24 हजार, 734 परीक्षार्थी शामिल हुए थे. सीबीएसई के मुताबिक इस साल दसवीं की परीक्षा में 16 लाख, 38 हजार, 428 और बारहवीं की परीक्षा में 11 लाख, 86 हजार, 306 परीक्षार्थी रजिस्टर हुए थे.