CM शिवराज बोले- सत्‍ता के लिए तड़प रही है कांग्रेस, याद आया चड्डी बनियान का युग



मंदसौर [ मंथन न्युज] । अंत्योदय मेले में पहुंचे मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह ने कांग्रेस पर जमकर प्रहार किया। उन्‍होंने किसान आंदोलन का नाम लिए बिना ही कहा कि कांग्रेस प्रदेश में सत्ता में वापसी के लिए तड़प रही है। इसके लिए वह प्रदेश में अराजकता व हिंसा फैलाना चाहती हैं। खून-खराबा कराना चाहती है। बता दें कि सूबे में एक जून यानी कल से किसानों का आंदोलन शुरू हो रहा है। इसको लेकर प्रदेश में जबरदस्‍त तनाव व्‍याप्‍त है। 

मंदसौर में महू-नीमच राजमार्ग पर राजीव गांधी क्रीड़ा परिसर में मंदसौर-नीमच जिले के संयुक्त असंगठित श्रमिक, तेंदू पत्ता संग्राहक सम्मेलन एवं अंत्योदय मेले में मुख्‍यमंत्री ने कहा कि मध्‍यप्रदेश शांति का टापू है। उन्‍होंने कहा कि मंदसौर-नीमच भी इसके अभिन्न हिस्से हैं, इसलिए कांग्रेस की ऐसी कोशिशों को विफलकर हमें इस राज्‍य को हर हाल में बचाना है। उन्होंने जनता के साथ मिलकर हिंसा व अराजकता फैलाने की हर कोशिश को विफल करने की बात दोहराई।

गेहूं बेच चुके किसानों को 65 रुपए क्विंटल अलग से देंगे

इसी बीच किसानों को खुश करने के लिए शिवराज ने कहा कि समर्थन मूल्य पर गेहूं बेच चुके किसानों को एक बार फिर 65 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से अलग से देंगे। दोनों जिलों के 70 हजार किसानों को भावांतर योजना का लाभ दिया है।  

याद दिलाया कांग्रेस का चड्डी बनियान युग

मुख्यमंत्री ने मंच से प्रदेश में कांग्रेस की तत्कालीन दिग्विजय सिंह सरकार के समय के चड्डी बनियान युग की याद भी दिलाई। बिजली की आपूर्ति की स्थिति की तब और अब की स्थिति के अंतर को बताया। साथ ही उन्होंने किसानों की समस्याओं व मांगों की अनदेखी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय की कार्यशैली पर तंज भी कसा।

1846 करोड़ की सिंचाई परियोजना का किया ऐलान

मुख्‍यमंत्री ने मल्हारगढ़ क्षेत्र के लिए 1846 करोड़ की सिंचाई परियोजना की घोषणा की। इस सिंचाई परियोजना के क्रियान्वित होने से क्षेत्र की करीब दो लाख एकड़ भूमि को सिंचित करने का लक्ष्य है।

हर बार से ज्यादा सीएम की सुरक्षा

सभा में किसान संगठनों द्वारा किसी तरह के विरोध प्रदर्शनों की आशंका को देखते हुए इस बार पुलिस प्रशासन ने विशेष व्यवस्था की थी। एसपी मनोज कुमार सिंह ने कहा कि वह किसी भी प्रकार का रिस्क नहीं लेते हुए सीएम की सुरक्षा के लिए 1200 पुलिसकर्मी लगाए थे, जो हवाई पट्टी से लेकर सभा स्थल व फिर यहां से पशुपतिनाथ मंदिर व सर्किट हाउस तक पूरे रास्ते पर तैनात रहे। चौहान ने यहां रात्रि विश्राम कर आंदोलन से संबंधित सभी से फीडबैक लिया।

ये की विशेष घोषणाएं

- शिवना नदी शुद्धिकरण योजना के लिए 12 करोड़ की स्वीकृति की घोषणा।  

- ऑनलाइन परीक्षा केंद्र के संबंध में सकारात्मक प्रयास का भरोसा दिया।

- मंदसौर जिले में सड़कों के निर्माण के लिए उचित प्रयास करने का विश्वास दिलाया।  

देर रात किसान संगठनों के पदाधिकारियों से मुलाकात

भारत किसान यूनियन सहित कुछ किसान संगठनों के पदाधिकारियों से बुधवार रात करीब 10.30 बजे मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से मिले। इस दौरान संगठनों के पदाधिकारियों ने फसलों का वाजिब दाम, किसान को अपनी फसल की कीमत तय करने का अधिकार मिले आदि मांगी रखीं। इस पर मुख्यमंत्री ने मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया। इसके बाद मुख्यमंत्री चौहान ने कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव और एसपी मनोज कुमार सिंह से भी किसान आंदोलन को लेकर चर्चा की।

इधर, जनप्रतिनिधि व नेताओं का जमावड़ा देर रात तक लगा रहा। प्रशासनिक मशीनरी भी रात तक सर्किट हाउस पर ही जमी रही। इससे पहले सीएम ने सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों व मंदसौर-नीमच जिले के भाजपा पदाधिकारियों से भी चर्चा की।