मप्र में भाजपा विरोधी वोट को लामबंद करने की कवायद, कांग्रेस की नजरें बसपा पर

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा विरोधी वोट को लामबंद करने की कवायद तेज हो गई है। उत्तरप्रदेश के सीमावर्ती और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के असर वाले जिलों की सीटों पर कांग्रेस ने बसपा सुप्रीमो मायावती से समझौते के प्रयास तेज कर दिए हैं। 2013 में बसपा 4 सीटें जीतकर करीब एक दर्जन सीटों पर दूसरे स्थान पर थी। इस बार कांग्रेस ने हर कीमत पर वोटों का बिखराव रोकने की बात कही है।

नवंबर में होने वाले विधानसभा चुनाव में मप्र की विंध्य, बुंदेलखंड, भिंड, मुरैना और ग्वालियर अंचल की सीटों पर भाजपा को शिकस्त देने गैर भाजपाई दलों को एकजुट करने की कवायद शुरू हो गई है। बसपा के राजनीतिक विश्लेषक ऐसी सीटों पर ज्यादा फोकस कर रहे हैं, जहां उसका मजबूत जनाधार है और पिछली बार मतों के थोड़े अंतर से उनकी पार्टी पिछड़ गई थी। यही वजह है कि इस बार मुख्य चुनाव में कांग्रेस और बसपा में समझौते के प्रयास तेज हो गए हैं। साथ ही संभावित सीटों पर राजनीतिक समीकरण खंगाले जा रहे हैं।

 
बसपा ने दी थी कड़ी टक्कर

मुरैना जिले के अंबाह और दिमनी में बसपा ने जीत दर्ज की थी। इसके अलावा रैगांव (सतना) और मनगवां (रीवा) सीट भी उसके खाते में गई थी। रीवा जिला मुख्यालय पर बसपा प्रत्याशी दूसरे स्थान पर था। 12-13 सीटें ऐसी थीं, जहां बसपा मामूली अंतर से पीछे रही। इनके अलावा सीधी, सिंगरौली, कोलारस, श्योपुर, अशोकनगर, भिंड, ग्वालियर ग्रामीण, दतिया, रीवा, सतना, छतरपुर और टीकमगढ़ जिले में भी बसपा ने प्रभावी उपस्थिति दर्ज कराई थी।

2013 में यह था मतों का प्रतिशत

भाजपा- 44.85 प्रतिशत

कांग्रेस- 36.38 प्रतिशत

बसपा- 6.29 प्रतिशत

वोट मिले थे

भाजपा- 1 करोड़ 51लाख 89 हजार 894

कांग्रेस- 1 करोड़ 23 लाख 14 हजार 196

बसपा- 21 लाख 27 हजार 959

दलों को करेंगे एकजुट

मध्यप्रदेश में कांग्रेस गैर भाजपाई दलों को एकजुट करके ही चुनाव लड़ेगी। इस संबंध में प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ पहले ही स्पष्ट शब्दों में यह बात कह चुके हैं। हम वोटों का बिखराव नहीं होने देंगे - मानक अग्रवाल, अध्यक्ष, कांग्रेस मीडिया विभाग मप्र

निर्णायक भूमिका निभाएंगे 

2013 में हम डेढ़ दर्जन सीटों पर जीत के बिल्कुल करीब थे। इस बार प्रदेश के कई जिलों में बसपा चुनावी नतीजों से चौंकाएगी और अपना खाता खोलेगी। सरकार बनाने में बसपा निर्णायक भूमिका निभाएगी - नर्मदा प्रसाद अहिरवार, अध्यक्ष, मप्र बसपा