रोल मॉडल के रूप में पेश होंगे टॉपर छात्र

शिवपुरी। हायर सेकेंडी परीक्षा में अच्छे अंक लाने वाले छात्र छात्राओं के सम्मान के लिए सोमवार को भोपाल में आयोजित होने वाले सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री शिवपुरी के चारों टॉपर स्टूडेंट को स्टेज पर बुलाकर सम्मान करेंगे और उन्हें प्रदेश भर के छात्र-छात्राओं के समक्ष रोल मॉडल के रूप में पेश किया जाएगा।
उल्लेखनीय है कि शिवपुरी के छात्र ललित पचौरी व आनंद धाकड़ ने गणित विषय में प्रदेश में क्रमश: प्रथम व द्वितीय स्थान हासिल किया। इसके अलावा आयुषी ढेंगुला ने कॉमर्स विषय में प्रदेश में प्रथम तथा संतोष रावत ने कृषि संकाय में प्रदेश में प्रथम स्थान हासिल किया है। इन चारों छात्रों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ११ जून को स्टेज से प्रदेशभर के सामने रोल मॉडल के रूप में सम्मानित करेंगे। इस कार्यक्रम के दौरान अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, विमुक्त घुम्मकड़ एवं अद्र्ध घुम्मकड़ जाति वर्ग के 75 प्रतिशत या उससे अधिक अंक पाने वाले विद्यार्थियों तथा अन्य वर्गों के 85 प्रतिशत या उससे अधिक अंक पाने वाले शिवपुरी के ८६५ विद्यार्थियों को लेपटॉप खरीदने के लिए25 हजार रुपए एवं सम्मान पत्र दिया जाएगा।
आठ एयर कंडीशनर बसों से आज होंगे रवाना
मौसम को ध्यान में रखते हुए शिक्षा विभाग ने बच्चों को भोपाल तक ले जाने के लिए आठ एयर कंडीशनर बसों की व्यवस्था की है। इन बसों से सुबह बच्चों को लंच देकर भोपाल के लिए रवाना किया जाएगा। रास्ते में बच्चों को एक बार चाय नाश्ता दिया जाएगा। प्रत्येक बस में सुरक्षा की दृष्टि से एक शिक्षक व एक शिक्षिका की ड्यूटी लगाई गई है, जिन बसों में छात्राओं की संख्या ज्यादा है वहां दो-दो शिक्षक-शिक्षिकाओं की ड्यूटी लगाई गई है। शाम को छह बजे भोपाल पहुंचने के बाद वहां भी बच्चों को चाय नाश्ता और रात का डिनर दिया जाएगा।
75 प्रतिशत अंक वाले बच्चे बाद में होंगे सम्मानित
मुख्यमंत्री द्वारा बीते रोज सभी वर्ग के 75 प्रतिशत अंक हासिल करने वाले बच्चों को भी सम्मानित करने की घोषणा की है। जिला शिक्षा अधिकारी का कहना है कि इन बच्चों के सम्मान के लिए समारोह बाद में आयोजित होगा। इन बच्चों के शामिल होने के बाद तो जिले में सम्मानित होने वाले बच्चों की संख्या डेढ़ हजार के लगभग हो जाएगी।

-हमारे चारों टॉपर बच्चों को मुख्यमंत्री कार्यक्रम में विशेष रूप से सम्मानित करेंगे, सम्मानित होने वाले बच्चों को भोपाल ले जाने के लिए हमने एयर कंडीशनर बसों की व्यवस्था की है ताकि बच्चों को गर्मी के मौसम में परेशान न होना पड़े। सुरक्षा की दृष्टि से बसों में शिक्षक शिक्षिकाओं की ड्यूटी लगाई गई है।