देश के इन राज्यों तक पहुंच चुका है मानसून, एमपी में आएगा इस दिन

भोपालः मध्य प्रदेश में प्री मानसून ने दस्तक दे दी है जिसके चलते राजधानी भोपाल समेत कई ज़िलों में हल्की फुल्की बारिश का दौर शुरु हो गया है। लेकिन बावजूद इसके भी गर्मी के सख्त तेवरों में कोई कमी नहीं आ रही है। प्रदेशवासी सूरज के तल्ख़ तेवर और उमस से राहत पाने के लिए अब अच्छी बारिश का इंतेज़ार कर रहे है। हालांकि, पिछले 28 मई को केरल के रास्ते देश में इंटर हुआ मानसून एक बार फिर दक्षिण-पश्चिम इलाकों से आगे बढ़ते हुए कोकण, श्रीहरिकोटा,अगरतला तक पहुंच चुका है। अनुमान है कि,अगले 24 घंटो में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के तेलंगाना के कई इलाकों में पहुंच जाएगा। साथ ही, इसी क्रम में यह अनुमान भी है कि, आगामी 48 घंटो में मानसून के महाराष्ट्र में दस्तक दे सकता है। मध्य प्रदेश के मौसम विज्ञानियों के अनुसार यहां मानसून जून के दूसरे हफ्ते में पहुंच सकता है।


अब तक यहां पहुंचा मानसून


हालांकि, एक तरफ उत्तर भारत के इलाकों में जहा अब तक बारिश नहीं हुई हैं वहां लोग गर्मी का प्रकोप झेल रहे हैं और जल्द से जल्द बारिश की कामना कर रहे हैं। वहीं कर्नाटक में पिछले 24 घंटों से हो रही तेज़ बारिश ने लोगों को गर्मी से तो राहत दे दी लेकिन , बारिश के कारण जगह जगह आई बाड़ के हालात और घटनाओं के चलते पांच लोगों की मौत हो गई। महाराष्ट्र के नासिक मंडल में भी सप्ताहांत पर हुई बारिश संबंधित घटनाओं में पांच लोगों की मौत हो गई है। मॉनसून के महाराष्ट्र और गोवा की ओर बढ़ने की सभी परिस्थितियां अनुकूल हैं, यहां पिछले दो दिनों से रुक रुक कर बारिश हो रही है। अगले दो-तीन दिनों में मॉनसून त्रिपुरा, मेघालय के कुछ हिस्सों, पश्चिम बंगाल के हिमालयी क्षेत्र और सिक्किम पहुंच जाएगा। हालांकि, इस बार केंन्द्रीय मौसम विभाग ने औसत से ज्यादा बारिश होने का अनुमान लगाया है, जिसके चलते देश के लगभग 13 राज्यों में आंधी-तूफान के साथ बारिश का अलर्ट जारी किया है।


जून के दूसरे हफ्ते में एमपी में होगा मानसून!


मौसम विज्ञानिक के.एल त्रिपाठी के मुताबिक, वैसे तो मानसून देश में तय समय से तीन दिन पहले आ गया था, जिसके बाद वह कर्नाटक तक काफी तेजी से बढ़ा, जिससे यह क़यास लगाए गए थे कि, आगामी दस दिनों के भीतर यह मध्य प्रदेश पहुच जाएगा, लेकिन इसके बाद उसके आगे बढ़ने की गति धीनी पड़ जाने के कारण मानसून तय समय पर नहीं पहुंच पा रहा है। हालांकि, गुज़रे 30 घंटो से मानसून ने एक बार फिर गति पकड़ी है, जिससे अनुमान है कि, आगामी दो दिनों में वह महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में दाखिल हो सकता है और अगर सब कुछ ठीक ठाक रहा तो, दक्षिण-पश्चिम मानसून जून दूसरे हफ्ते में मध्य प्रदेश में प्रवेश कर लेगा।