शीतयुद्ध के बाद सबसे बड़ा सैन्य अभ्यास करेगा रूस

मास्को। रूस अगले महीने से सबसे बड़े युद्धाभ्यास करने जा रहा है। 1980 के दशक के बाद से यह उसका सबसे बड़ा युद्धाभ्यास होगा। इसमें करीब 300,000 सैनिक और 1,000 विमान हिस्सा लेंगे।
रूस के रक्षा मंत्री ने बताया कि देश के पूर्वी क्षेत्र में 11 से 15 सितंबर तक वोस्तोक-2018 के नाम से होने वाले इस युद्धाभ्यास में चीन और मंगोलिया भी हिस्सा लेंगे। रूसी समाचार एजेंसियों के मुताबिक रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू ने कहा, यह कुछ-कुछ जापाद-81 जैसा होगा, लेकिन यह उससे भी बड़ा होगा।

उन्होंने पूर्वी यूरोप में 1981 में हुए युद्धाभ्यास का उल्लेख करते हुए यह बात कही। उन्होंने बताया कि 1,000 से अधिक विमान, तकरीबन 300,000 सैनिक और मध्य एवं पूर्वी सैन्य जिलों के लगभग सभी क्षेत्र इस अभ्यास में शामिल होंगे।
मास्को ने कहा कि पिछले साल बेलारूस के साथ जापाद-2017 का आयोजन किया गया था। जिसमें 12,700 सैनिकों ने हिस्सा लिया था।