मध्य प्रदेश में बोगस नहीं, बल्कि डुप्लीकेट वोटर, मल्टीपल वोटर्स के नाम हटाए जा रहे हैं : मुख्य चुनाव आयुक्त

भोपाल। विधानसभा चुनाव की तैयारियों के सिलसिले में भोपाल आए मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा है कि फर्जी मतदाता को लेकर जो शिकायत आईं थी उनकी जांच में पता चला है कि दरअसल, ये मतदाता बोगस नहीं, बल्कि डुप्लीकेट वोटर थे। रावत ने कहामुख्य चुनाव आयुक्त ने आज भोपाल में प्रदेश के राजनीतिक दलों  के साथ बैठक की। बैठक के बाद सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से 10-10 मिनट अलग चर्चा की। अगले 2 दिनों में प्रदेश में चुनाव की तैयारियों पर चर्चा होगी। राजनीतिक दलों की शिकायतों पर भी चर्चा होगी। कल मुख्य सचिव और प्रशासनिक स्तर के अधिकारियों के साथ बैठक कर पूर्व में दिए गए निर्देशों पर हुई कार्रवाई का फीडबैक का जायजा लिया जाएगा। चुनाव के 3 महीने पहले सभी तैयारियों को लेकर फीडबैक लिया जाएगा।राजनीतिक दलों के साथ बैठक शुरू होने से पहले रावत ने कहा कि राजनीतिक दलों से जो भी फीडबैक मिलेगा उस पर विचार किया जाएगा। मुख्य सचिव और डीजीपी के साथ बैठक कर कानून व्यवस्था और प्रशासनिक तैयारियों की समीक्षा करेंगे। बोगस मतदाता पर उन्होंने कहा कोई भी मतदाता बोगस नहीं है सभी डुप्लीकेट वोटर थे। चुनाव आयोग मल्टीपल वोटर्स को हटाने का काम कर रही है। मंगलवार को मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत 7 राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे। दोपहर डेढ़ बजे पत्रकारिता विश्वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेंगे। 29 अगस्त को मुख्य सचिव, डीजीपी सहित प्रदेश भर के कलेक्टर और एसपी के साथ बैठक होगी। ओपी रावत आयोग के अफसरों के साथ भी बैठक करेंगे। कि आयोग मल्टीपल वोटर्स के नाम हटाने का काम तेजी से चल रहा है।  आयोग राजनीतिक पार्टियों की हर तरह की समस्या को हल करेगा।