सवर्ण आंदोलन: पढ़िए, कितने मंत्री दुबक गए, कार्यक्रमों में नहीं आए | 



ग्वालियर। सुप्रीम कोर्ट के आदेश को निष्प्रभावी करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लाए गए एससी-एसटी संशोधन एक्ट के खिलाफ सवर्ण आंदोलन अब मुखर हो गया है। शनिवार को कई सांसदों और मंत्रियों का घेराव हुआ, रविवार को सीधी जिले में सीएम शिवराज सिंह पर पत्थर और जूते फेंके गए। इसके बाद कई मंत्रियों ने अपने सभी सार्वजनिक कार्यक्रम निरस्त कर दिए। 


सोमवार को इन मंत्रियों/विधायकों ने कार्यक्रम निरस्त किए
यशोधरा राजे सिंधिया, युवक कल्याण मंत्री : शिवपुरी में आयोजित कार्यक्रमों में शामिल होना था। वे नहीं पहुंचीं। बाद में उन्होंने कहा- मैंने कोई कार्यक्रम निरस्त नहीं किया। मैं भोपाल में हूं। उन्होंने यह नहीं बताया कि वो शिवपुरी क्यों नहीं पहुंची। 
नारायण सिंह कुशवाह, नव करणीय ऊर्जा मंत्री : अम्बाह में कुशवाह समाज द्वारा आयोजित समारोह में शामिल होना था। वे ग्वालियर में थे लेकिन वहां नहीं गए।
ललिता यादव, पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री : दतिया में यादव समाज के कार्यक्रम में आना था। अंतिम समय में दौरा रद्द। 
भारत सिंह कुशवाह, विधायक भाजपा: अम्बाह में कुशवाह समाज द्वारा आयोजित समारोह में आमंत्रित थे। वे ग्वालियर में ही थे लेकिन कार्यक्रम में नहीं गए।

ड्रेस बदलकर दूसरी गाड़ी से निकले विधायक
बता दें कि यह सिर्फ ग्वालियर संभाग का आंकड़ा है। इसमें भाजपा और कांग्रेस के दूसरे पदाधिकारियों के छोटे मोटे कार्यक्रम शामिल नहीं हैं। हालात यह हैं कि पूरे ग्वालियर चंबल संभाग में एक बार फिर राजनीतिक सन्नाटा है। कोई नेता सार्वजनिक स्थल पर कुर्ता पहनकर आने को तैयार नहीं। कुछ दिग्गज नेता सरकारी गाड़ी छोड़, दूसरी प्राइवेट गाड़ियों से निजी संपर्क के लिए निकले।