सांसद व मंत्रियों से मिले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष, सीट का फीडबैक लेकर पूछा- कहां से लड़ना चाहते हैं चुनाव

भाजपा में टिकट तय करने की कवायद ने जोर पकड़ लिया है। सर्वे और फीडबैक के बीच भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह उम्मीदवारों की नब्ज टटोल रहे हैं। पार्टी दफ्तर में गुरुवार को करीब पांच घंटे तक बैठक करके उन्होंने मुरैना, भोपाल ग्रामीण और विदिशा के जिलाध्यक्षों, जिला पंचायत अध्यक्षों, सांसद व मंत्रियों को बुलवाया और न केवल उनसे दावेदारी पूछी, बल्कि सीट के बारे में भी ब्यौरा लिया। मुरैना सांसद अनूप मिश्रा ने विधायक का चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर कर दी है। साथ ही नगरीय विकास मंत्री माया सिंह की सीट ग्वालियर पूर्व से दावेदारी भी कर दी। अब इस मामले पर अंतिम निर्णय पार्टी करेगी। 

मुरैना सांसद के साथ वर्तमान जिलाध्यक्ष, दो पूर्व जिलाध्यक्ष और जिला पंचायत अध्यक्ष भी पहुंचे। राकेश सिंह पहले यह बैठक भोपाल में अपेक्स बैंक के गेस्ट हाउस में करने वाले थे, लेकिन सवर्णों के बंद के कारण पार्टी कार्यालय में भी बात की। बंद में कोई घटना न हो, इसलिए पार्टी दफ्तर पर पुलिस तैनात रही। मुरैना के नेताओं से वन-टू-वन करने के बाद राकेश सिंह ने विदिशा के विधायक व राज्यमंत्री सूर्यप्रकाश मीणा, भोपाल ग्रामीण के जिलाध्यक्ष रहे भक्तपाल सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष तोरण सिंह दांगी और वर्तमान विदिशा जिलाध्यक्ष राकेश जादौन के साथ अलग-अलग बात की। 

सूर्य प्रकाश मीणा की शमशाबाद सीट से भक्त पाल ने दावेदारी रख दी है। जबकि तोरण सिंह ने गंजबासौदा का रुख किया। इन नेताओं से बात करने के बाद विदिशा के प्रभारी व भोपाल सांसद आलोक संजर से भी प्रदेश अध्यक्ष ने क्षेत्र का फीडबैक लिया। बताया जा रहा है कि प्रदेश अध्यक्ष अन्य जिलों से भी वन-टू-वन करेंगे। 

इधर, बता दें कि भाजपा में टिकट को लेकर अभी कुछ सर्वे व फीड बैक लेने का काम चल रहा है। यह सितंबर तक पूरा होगा और 25 सितंबर के बाद हर जिले में 200 से 250 पूर्व व वर्तमान वरिष्ठ नेताओं से बात करने के लिए पर्यवेक्षक जाएंगे। बंद पर्ची में संभावित नाम लाए जाएंगे। इसके बाद मुख्यमंत्री प्रदेश संगठन के साथ बैठकर चर्चा शुरू करेंगे। 

पांच सर्वे और फीडबैक की कसौटी पर नेता 

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मुख्यमंत्री के स्तर पर, निजी संस्था द्वारा, जन अभियान परिषद और इंटेलीजेंस संभावित उम्मीदवारों को लेकर सर्वे हो रहा है। इसमें वर्तमान विधायकों की एंटी इनकंबेंसी भी देखी जा रही है। इसके अलावा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और गैर भाजपाई व्यवस्था से फीडबैक लिया जा रहा है। इसके बाद इनका निचोड़ निकालकर नामों की लिस्टिंग होगी। इसके बाद चुनाव समिति की बैठक होगी। पार्टी सूत्रों का कहना है कि अक्टूबर के पहले पखवाड़े में चुनाव समिति की बैठक प्रस्तावित है। 

जीत का क्राइटेरिया भी होगा तय 

नेता पुत्रों, रिश्तेदार, दूसरी पार्टी से आए लोगों, लंबे समय से लगातार जीत रहे विधायकों, मंत्रियों की परफॉर्मेंस, जातिगत गणित, जिलाध्यक्षों व निगम-मंडल के अध्यक्षों को टिकट और राष्ट्रीय स्तर से तय मापदंडों का क्राइटेरिया भी 25 सितंबर के बाद तय कर दिया जाएगा। हालांकि इसमें भी यह व्यवस्था रखी जाएगी कि जीतने वाले उम्मीदवार के इसे शिथिल किया जा सके। 

भाजपा की बड़ी बैठक आज 

25 सितंबर को कार्यकर्ता महाकुंभ की तैयारियों को लेकर भाजपा की बड़ी बैठक शुक्रवार को सुबह 11 बजे से संत हिरदाराम गर्ल्स कॉलेज बैरागढ़ में होगी। इसमें प्रदेश पदाधिकारी, कार्यसमिति सदस्य, जिला अध्यक्ष एवं महामंत्री, मोर्चे के प्रदेश अध्यक्ष एवं महामंत्री तथा राष्ट्रीय पदाधिकारी, प्रकोष्ठ, विभाग एवं प्रकल्प के प्रदेश संयोजक, सांसद, पूर्व सांसद, विधायक, पूर्व विधायक, महापौर, जिला पंचायत अध्यक्ष आदि को आमंत्रित किया गया है