MP: करैरा में BJP की जीत की राह में BSP सबसे बड़ा रोड़ा

मध्य प्रदेश की करैरा सीट पर फिलहाल कांग्रेस का कब्जा है. बीजेपी यहां पर वापसी की कोशिश में है. लेकिन उसकी जीत में बसपा रोड़ा है.





करैरा मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले की विधानसभा सीट है. शिवपुरी में 5 विधानसभा सीटें आती हैं, उन्हीं में से करैरा भी एक है. करैरा विधानसभा सीट 2008 से अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है. इस विधानसभा क्षेत्र में लगभग 70 हजार मतदाता अनुसूचित जाति वर्ग के हैं, जिनमें से सर्वाधिक 45 हजार मतदाता जाटव हैं.


फिलहाल इस सीट पर कांग्रेस पर कब्जा है. कांग्रेस की शंकुतला खटीक यहां की विधायक हैं. उन्होंने 2013 के चुनाव में बीजेपी के ओमप्रकाश खटीक को 10 हजार से अधिक मतों से पराजित किया था. शंकुलता खटीक को जहां 59371 वोट मिले थे, तो वहीं बीजेपी के ओमप्रकाश खटीक को 49051 वोट मिले थे. इसके अलावा बहुजन समाज पार्टी(बसपा) के उम्मीदवार ने तीसरा स्थान हासिल किया था.

शिवपुरी जिले की पांच विधानसभा सीटों में बसपा का सर्वाधिक जनाधार करैरा विधानसभा सीट पर है. 2008 के चुनाव में बीजेपी के रमेश प्रसाद खटीक 35846 वोटों के साथ पहले स्थान पर थे, तो वहीं बसपा के प्रगतिलाल जाटव 23030 वोटों के साथ दूसरे स्थान पर थे. कांग्रेस प्रत्याशी बाबू रामनरेश ने चुनाव में तीसरा स्थान हासिल किया.  

ऐसे में इस सीट पर बीजेपी, कांग्रेस और बसपा के बीच कड़ा मुकाबला होता आया है. अगर इस सीट पर कांग्रेस और बसपा के बीच गठबंधन होता है तो बीजेपी की मुश्किलें बढ़ना तय है.

2013 के चुनावी नतीजे

मध्य प्रदेश में कुल 231 विधानसभा सीटें हैं. 230 सीटों पर चुनाव होते हैं जबकि एक सदस्य को मनोनीत किया जाता है. 2013 के चुनाव में बीजेपी को 165, कांग्रेस को 58, बसपा को 4 और अन्य को तीन सीटें मिली थीं.