SBI ने बदला कैश जमा करने का नियम, जान लें ये जरूरी बातें

देश के  सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई  ने अपने ग्राहकों के बैंक खातों को सुरक्षित रखने के लिए एक बड़ा फैसला लिया है. नोटबंदी के दौरान बड़े पैमाने पर जालसाजी के मामले सामने आए थे, जिसको देखते हुए एसबीआई ने फैसला लिया है कि किसी के खाते में कोई दूसरा शख्स पैसे नहीं जमा करा पाएगा. यानी अगर 'A' का एसबीआई में बैंक खाता है तो केवल वही कैश काउंटर पर जाकर पैसे जमा करा पाएगा. यहां तक कि कोई पिता भी अपने बेटे के SBI खाते में पैसे नहीं जमा करा पाएगा.नियम लाने के पीछे ये है वजह
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, SBI से जब इस नियम को लागू करने के पीछे की वजह पूछी गई तो उन्होंने बताया कि नोटबंदी के दौरान कई बैंक खातों में बड़ी संख्या में हजार और पांच सौ नोट जमा किए गए थे. अब जांच के बाद जब लोगों से इतने सारे नोटों के बारे में पूछा जा रहा है तो उनका कहना है कि किसी अनजान शख्स ने उनके बैंक खातों में पैसे जमा करा दिए हैं. उनका उससे कोई लेना-देना नहीं है
इसके बाद आयकर विभाग ने सरकारी बैंकों से अनुरोध किया है कि वे ऐसे नियम बनाएं कि कोई दूसरा शख्स किसी के बैंक खाते में नकद रुपए नहीं जमा करा पाए, ताकि कोई व्यक्ति अपने बैंक खाते में जमा पैसे के बारे में अपनी जिम्मेदारी और जवाबदेही से बच न सके. बैंक इस व्यवस्था के लागू होने के बाद से आतंकी फंडिंग पर भी लगाम लगने की उम्मीद किसी और बैंक खाते में पैसे जमा करने की अब ये होगी प्रक्रिया
बैंक ने इस नए नियम को लागू करने के साथ इसमें विशेष परिस्थितियों का भी ख्याल रखा है. उदाहरण के तौर पर अगर मिस्टर 'A' मिस्टर 'B' के बैंक खाते में नकदी जमा करना चाहते हैं तो 'A' को 'B' से एक अनुमति लेटर लिखवाना होगा, जिसपर 'B' का हस्ताक्षर भी होगा. इसके अलावा बैंक काउंटर पर नकदी के साथ दी जाने वाली जमा फॉर्म पर बैंक खाता धारक का हस्ताक्षर होना चाहिए. इन दो परिस्थितियों में ही कोई दूसरा शख्स किसी के बैंक खाते में नकदी जमा कर पाएगा. हालांकि बैंक ने ये भी साफ कर दिया है कि अगर कोई ऑनलाइन किसी के बैंक खाते में पैसे जमा कराना चाहता है तो वह इसके लिए स्वतंत्र है. यहां नया नियम लागू नहीं होगा.