10 वर्षों के लिए दिया गया था आरक्षण, एक और नेता का बड़ा बयान

भोपाल। लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने हाल ही में आरक्षण को लेकर बड़ी टिप्पणी की है। इसके बाद कई दिग्गज नेता भी आरक्षण पर टिप्पणी कर रहे हैं। महाजन के बाद अब मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने भी दोहराया है कि आरक्षण दस वर्षों के लिए दिया गया था। इसलिए नए सिरे से इस पर विचार होना चाहिए।


इंदौर सांसद सुमित्रा महाजन, पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते और मध्यप्रदेश सरकार के मंत्री राजेंद्र शुक्ल ने भी आरक्षण पर बयान दिया है। आरक्षण पर पहले ही बवाल चल रहा है, जबकि कई पार्टियां इस मुद्दे पर कुछ भी कहने से बच रही है। ऐसे में बीजेपी सांसदों के इन बयानों को काफी अहम माना जा रहा है।


 


आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाले सांसद कुलस्ते ने कहा कि पूर्व में जब आरक्षण लागू हुआ था, तब दस सालों के लिए दिया गया था। अब समय भी बदल गया है और स्थिति भी बदल गई है। ऐसे में अब पुनः आरक्षण पर विचार होना चाहिए।


 


मंत्री शुक्ल बोले सब ठीक हो जाएगा
मध्यप्रदेश सरकार के मंत्री राजेंद्र शुक्ल ने एस्ट्रोसिटी एक्ट को लेकर बयान दिया है। शुक्ल ने कहा कि समय के साथ सब ठीक हो जाएगा।



महाजन की टिप्पणी से गर्माई राजनीति
मध्यप्रदेश के इंदौर शहर की सांसद एवं लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने भी एक बयान जारी कर राजनीति गर्मा दी है। महाजन ने आरक्षण पर बड़ी टिप्पणी करते हुए कहा कि आरक्षण की जरूरत सिर्फ दस सालों के लिए थी। उन्होंने दस सालों के भीतर समतामूलक समाज की कल्पना की थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका है। अब भी हम हर दस सालों पर इसे अगले दस सालों के लिए बढ़ा देते हैं।