कोलारस से वीरेंद्र रघुवंशी ओर पोहरी से नरेंद्र बिरथरे का भाजपा का टिकेट फाइनल हुआ तो बिगड़ सकता है कांग्रेस का समीकरण,

उपचुनाव के बाद भाजपा चोट खाये हुये है! ओर इस बार भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का लक्ष्य मध्य प्रदेश में सरकार बनाना  है! अमित शाह मध्यप्रदेश में सरकार बनाने को लेकर सख्त रूख अपनाये हुये है इस लिए भाजपा उपचुनाव  की गलती नहीं दौहराना चाहेगी!
कहावत है दूध का जला व्यक्ति   छाछ फुख फूख कर पीता है
और इसी कहावत चरितार्थ करने करते हुये भाजपा जीतने वाले व्यक्ति पर दाव खेलेगी, कांग्रेस के समीकरण को बिगाड़ने के लिये पोहरी से बृह्मण चेहरा नरेंद्र बिरथरे को टीकेट मिलता है तो कांग्रेस का समीकरण भी बिगड़ेगा साथ ही भाजपा वर्तमान विधायक के होने वाले विरोध से भी बचेगी!  क्योंकि वर्तमान में पोहरी में भाजपा का विधायक है ओर वर्तमान विधायक के पूर्ण  जोर विरोध के चलते भाजपा के शीर्ष नेताओ को पोहरी हार का डर सता रहा है! इस समीकरण को देखते हुए पोहरी में हमेशा से देखा गया है कि पूरा चुनाव हमेशा भाजपा वर्सेस धाकड़ है या धाकड़ वर्सेस ब्राह्मण होता रहा है वर्तमान में धाकड़ विधायक का विरोध को देखते हुए भाजपा ब्राह्मण चेहरा नरेन्द्र विरथरे पर दाव खेल सकती है!  कोलारस उपचुनाव में भाजपा की बहुत किरकिरी हुई पूरी सरकार देवेंद्र जैन के विरोध के चलते पूरी ताकत लगाकर भी चुनाव नहीं जीता पाई थी  उपचुनाव में किसी कारण वश पूर्व विधायक वीरेंद्र रघुवंशी को टिकट न देकर देवेंद्र जैन को टिकट दिया गया था! जिससे भाजपा की बहुत किरकिरी हुई भाजपा इस बार सिर्फ जीतने वाले प्रत्याशियों पर अपना ध्यान आकर्षित किए हुए और कई तरह के सर्वे भाजपा द्वारा कराए गये हैं इसी को देखते हुए भाजपा विधानसभा चुनाव में वीरेंद्र रघुवंशी को मैदान में उतारकर और इसे ओर
पोहरी से नरेंद्र तारीख को मैदान में उतार का कांग्रेस का समीकरण बिगाड़ सकती है!