कहते हैं लड़कियां कमजोर होती हैं, लेकिन अखिल अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के मिशन साहसी मे कुछ ओर नजारा दिखाई दिया

कहते हैं लड़कियां कमजोर होती हैं, लेकिन अखिल अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के मिशन साहसी में जो नजारा दिखाई दिया, उसने लोगों का दिल दहला दिया।

शिवपुरी- कहते हैं लड़कियां कमजोर होती हैं, लेकिन आज अखिल अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के मिशन साहसी में जो नजारा दिखाई दिया, उसने लोगों का दिल दहला दिया। बेटियों के इस साहस को जिसने भी देखा, अपनी कुर्सी से उठ खड़ा हो गया।


दिल दहला देने वाला नजारा
दिल दहला देने वाला ये नजारा दिखाई दिया शिवपुरी के गाॅधी पार्क मैदान पर हुआ|  इस कार्यक्रम की शुरुआत सरस्वती वंदना से हुई फिर इसके बाद छात्राओं ने आत्म रक्षा के गुर जो छात्राओं को विद्यार्थी परिषद के दिनों से उनके स्कूलों में जा जा कर सीखा रहा है उनका प्रदर्शन हुआ ,जहां मिशन साहसी के अंतर्गत दो-तीन हजार बेटियों ने आत्मरक्षा के गुरों का प्रदर्शन किया। मंच पर सबसे खतरनाक जो स्टंट था, वो था हदोड़े से मटका फोड़ने का। बेटियों के पेट पर मटका रखा गया था। इसके बाद जब युवक हथौड़ा लेकर वहां आए, तो लोगों की सांसें थम गईं। इसके बाद जैसे ही प्रहार किया गया, लोग अपनी कुर्सी से खड़े हो गए। बेटियां इतने तेज प्रहार के बाद भी सुरक्षित दिखाई दीं, तो पूरा मैदान तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा।

मंच संचालक  अनुप्रिया तंवर ने बताया कि वर्तमान समय मे जिस प्रकार की घटनाएं हो रही है तथा समाज में जिस प्रकार की विकृति आ रही उससे आज छात्राएं असुरक्षित महसूस कर रही है। विद्यार्थी परिषद के इस अभिनव प्रयास से छात्राओं को आत्मरक्षा करने का  बल मिलेगा  तथा  वहा खुद ही खुद कि रक्षा कर सकेगी जिससे आये दिन हो रही घटना में कमी आएगी। 

जिसके बाद कराटे कोच समीर खान के स्टूडेंट्स ने दैनिक जीवन में होने वाली परेशानियों से कैसे बचे यह सिखाया, इसके बाद एक मेडिकल की टीम आयी जिसने छात्राओं को ड़ेगु के बारे में जागरूक किया ।

   इसके बाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कौटिल्य अकेडमी के संचालक तरुण शर्मा ने बताया की नारी कभी भी छात्राओं से पीछे नही रही है।

इसके बाफ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शिवपुरी विभाग संयोजक आशीष शर्मा ने बताया की अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का यह कार्यकम नारी को उसकी ताकत बताने के लिए है , यह कार्यक्रम ग्रैंड मास्टर शिफूजी शौर्य भारद्वाज के मिशन प्रहार की तर्ज पर है  

अंत में मुख्य अतिथि डॉ नीतेश शर्मा ने बताया की स्वतंत्रता संग्राम में भी नारियों का बहुत योगदान रहा है। फिर कार्यकरण को खत्म करने से पहले सभी ट्रेनर्स को स्मृति चिन्ह भेंट किये।इस मौके पर वेदांत सविता ,राहुल पडेरिया,तरूण शर्मा,नितेश शर्मा, हर्षित भार्गव ,आदित्य पाठक, अनुरंजन चतुर्वेदी, निकेतन शर्मा ,प्रदुम गोस्वामी  वैशाली पाल, सीमा सिकरवार,अंजना राठौर,शाना खॉन डिंक्कीनगपाल ,सिमरन राठौर ,मंयक , के साथ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के तमाम पदाधिकारी मौजूद रहे।