यशोधरा राजे सिंधिया, अपनी सीट बचाने के लाले पड़ गए 

ग्वालियर। चुनाव में स्टार प्रचारक उसे बनाया जाता है जो प्रत्याशियों को जिताने के लिए उनकी विधानसभाओं में जाए लेकिन ग्वालियर-चम्बल संभाग में भाजपा के स्टार प्रचारकों को अपनी ही सीट के लाले पड़े हैं। जीतने के लिए पार्टी से मदद मांग रहे हैं। कुछ के तो हाथ-पांव फूले नजर आ रहे हैं। हालात यह हैं कि अब तक वो अपनी विधानसभा भी नहीं नाप पाए हैं। 
बीजेपी के स्टार प्रचारकों की सूची में ग्वालियर से यशोधरा राजे सिंधिया को जगह मिली है, लेकिन इन नेताओं को अपनी सीट बचाने के लाले पड़े हैं, ऐसे में भला वह किस-किस के लिये वोट मांगें।

SC-ST एक्ट बीजेपी के लिये बना सियासी कांटा

इस चुनाव में एससी-एसटी एक्ट बीजेपी के लिये सियासी कांटा साबित हो रहा है। जिसकी समीक्षा के विरोध में दो अप्रैल को भड़के आंदोलन की आग का असर ग्वालियर चंबल अंचल में सबसे अधिक दिखा था, उस वक्त इस संभाग में कई लोगों की मौत हुई थी और जब केंद्र सरकार ने अध्यादेश के जरिए सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलट दिया, तब भी इसी क्षेत्र में भारत बंद के दौरान सबसे अधिक विरोध देखा गया था। जिससे उन्हें इस बार हार का डर सता रहा है।