लोकसभा में तत्काल तीन तलाक बिल पर 27 दिसंबर को होगी चर्चा

नई दिल्ली। तत्काल तीन तलाक विधेयक पर चर्चा में हिस्सा लेने के लिए कांग्रेस राजी हो गई है, लिहाजा इस बिल पर लोकसभा में 27 दिसंबर को चर्चा कराई जाएगी। लोकसभा में गुरुवार को जब मुस्लिम वूमेन (प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मैरिज) बिल, 2018 चर्चा के लिए लाया गया, तो सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सुझाव दिया कि इस पर अगले हफ्ते चर्चा कराई जाए।

इस पर संसदीय कार्य मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने विपक्ष से आश्वासन मांगा कि उस दिन बिना किसी बाधा के चर्चा होने दी जाएगी। इस पर खड़गे ने कहा, 'मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि इस बिल पर 27 दिसंबर को चर्चा कराइए। हम सभी इसमें हिस्सा लेंगे। हमारी पार्टी और अन्य पार्टियां भी चर्चा के लिए तैयार हैं।'
उनके इस बयान पर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'खड़गे जी ने सार्वजनिक वादा किया है और हमें 27 दिसंबर को चर्चा कराने में कोई समस्या नहीं है। मैं अनुरोध करता हूं कि चर्चा खुशनुमा और शांतिपूर्ण माहौल में हो।' बता दें कि कांग्रेस के विरोध और कई अन्य मसलों की वजह से सदन की कार्यवाही लगातार बाधित चल रही है।

कांग्रेस राफेल सौदे की संयुक्त संसदीय समिति से जांच की मांग कर रही है। तत्काल तीन तलाक को अपराध बनाने वाला यह विधेयक सोमवार को लोकसभा में पेश किया गया था। यह सितंबर में जारी अध्यादेश का स्थान लेगा।
प्रस्तावित कानून के तहत तत्काल तीन तलाक देना गैरकानूनी और अमान्य होगा। ऐसे पति को तीन साल तक की सजा हो सकेगी। नया विधेयक पारित होने पर पुराना विधेयक निरस्त हो जाएगा जिसे लोकसभा ने पारित कर दिया था और राज्यसभा में लंबित है।