अब शुरू होगी चुनौती! ये है कमलनाथ सरकार की तीन सबसे बड़ी 'अग्निपरीक्षा'

बीजेपी, कांग्रेस को वॉक ओवर देने के मूड में नहीं है. ऐसे में अब सवाल ये उठ रहा है कि आखिर इन अग्निपरीक्षाओं से कमलनाथ कैसे पार पाएंगे?

अब शुरू होगी चुनौती! ये है कमलनाथ सरकार की तीन सबसे बड़ी 'अग्निपरीक्षा'

मध्य प्रदेश में सरकार गठन के बाद कमलनाथ  सरकार की सबसे बड़ी अग्निपरीक्षा होने जा रही है. सात जनवरी से शुरू हो रहे विधानसभा सत्र के साथ ही कमलनाथ सरकार को तीन बड़ी अग्निपरीक्षाओं से गुजरना होगा. सूत्रों की मानें तो बीजेपी, कांग्रेस को वॉक ओवर देने के मूड में नहीं है. ऐसे में अब सवाल यह उठ रहा है कि आखिर इन अग्निपरीक्षाओं से कमलनाथ कैसे पार पाएंगे?दरअसल, समर्थन को लेकर बीएसपी और एसपी की धमकियों के बीच कमलनाथ सरकार की सबसे बड़ी अग्निपरीक्षा होने जा रही है. ये अग्निपरीक्षाएं विधानसभा सत्र के साथ ही शुरू होंगी. बीजेपी के रुख से साफ है कि वह इन अग्निपरीक्षाओं में कमलनाथ सरकार को किसी भी तरह से वॉक ओवर देने के मूड में नहीं हैं. ऐसे में सीएम कमलनाथ इन अग्निपरीक्षाओं में कैसे पास होंगे अब इस पर सबकी नज़रें टिकी हैं?विधानसभा सत्र में पहली अग्निपरीक्षा उस स्थिति में होगी जब बीजेपी स्पीकर पद के लिए अपना उम्मीदवार मैदान में उतारती है. अगर ऐसा हुआ तो फिर स्पीकर के चुनाव के लिए वोटिंग होगी और बहुमत के आधार पर स्पीकर का चयन होगा. सूत्रों की मानें तो बीजेपी, कांग्रेस को इस मामले में वॉक ओवर देने के मूड में नहीं है.सरकार की दूसरी अग्निपरीक्षा राज्यपाल के अभिभाषण पर होगी, जबकि तीसरी अग्निपरीक्षा अनुपूरक बजट के दौरान बहुमत के आंकड़े को देखें तो फिलहाल कांग्रेस के पास 114 सीटें हैं. कांग्रेस को 2 बीएसपी, एक एसपी और 4 निर्दलीयों का समर्थन हासिल है, जबकि 109 सीटों के साथ मजबूत विपक्ष में बीजेपी है.नई सरकार गठित होने के बाद विधानसभा का पहला सत्र 7 जनवरी से शुरू होने जा रहा है, जो 11 जनवरी तक चलेगा. सत्र के दौरान ही कमलनाथ सरकार को इन अग्निपरीक्षाओं से गुजरना होगा, देखना यह है कि आखिर इन चुनौतियों से कमलनाथ कैसे पार पाएंगे