मासूमों की जानों के साथ खिलवाड़ बर्दास्त नही किया जायेगा:वेदांश


आभाविप ने ईस्टर्न हाइट्स स्कूल प्रशासन के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मॉग

आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने ईस्टर्न हाइट्स स्कूल की बस जिसने एक छात्रा को कुचल दिया जिससे उसकी मौत हो गई उसके खिलाफ कलेक्टरेट में ज्ञापन दिया।
इस दौरान जिला संयोजक वेदांश सविता ने बताया की यह घटना बस चालक की लापरवाही का नतीजा है जिसकी वजह से एक मासूम छात्रा की जान चली गयी और यह ऐसी पहली घटना नही है जो कि स्कूल बसों द्वारा हुई है इससे पूर्व में भी कई घटनाएं हो चुकी है जिसमें कई छात्र छात्रा बाल बाल बचे और कुछ को अपनी जान गंवानी पड़ी है और इनमे से अधिकतर ईस्टर्न हाइट्स स्कूल की बसों से हुए है ऐसे में भी इस स्कूल पर कोई करवाई नही हुई है ज्ञात रहे की पूर्व में ईस्टर्न हाइट्स स्कूल की बस ट्रक से टकराकर पलट गयी थी जिसमे कई बच्चे घायल हुए थे और कुछ माह पूर्व सेंट बेनेडिक्टस स्कूल की बस बैक करते समय उसी स्कूल के एक मासूम पर चड़ गयी थी जिसके बाद भी ऐसी घटनाएं रोकने के लिए प्रयास नही हुए ऐसे में इसमे जितनी गलती स्कूल प्रबंधन की है उतनी ही गलती परिवहन विभाग और RTO की भी है, जो की पूर्व में हुइ घटनाओं के बाद भी नींद से नही जागा और जिसका परिणाम यह हुआ की आज हमने एक मासूम को खो दिया और आरोप लगाया की स्कूल प्रबंधक कुछ कमीशन के लालच में खटारा बसों को चलवा रहे है जिससे मासूमो की जान को खतरा बना हुआ है और यह भी आरोप लगाया की जो बस स्कूलों में चल रही है उनमे ना तो होर्न बजता है ओर ना ही ब्रेक सही समय पर लगते ऐसे में हादसे हो जाते है और फिर ऐसी बसों को फिटनेस सर्टिफिकेट मिल जाता है तो इसमे परिवहन विभाग की भी गलती है ।
इस दौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की ओर से जिला संयोजक वेदांश सविता ने कलेक्टर से मांग की कि ऐसी खटारा बसों को तुरंत बंद किया जाना चाहिए क्योंकि मासूमो की जान के साथ खिलवाड़ बर्दास्त नही किया जायेगा और मासूम छात्रा के परिवार को स्कूल प्रबंधन से मुआवजा दिलाने की मांग रखी और ऐसे स्कूल जिनकी बसों से ऐसी घटनाएं लगातार हो रही है उन स्कूलों पर करवाई की जाने की मांग भी की और सभी स्कूल बसों की साप्ताहिक जांच होनी चाहिए जिससे ऐसी घटनाएं बंद हो सके मांग ना पूरी होने पर विद्यार्थी परिषद ने 3 दिन बाद उग्र आंदोलन की चेतवानी दी।

पहले भी हो चुके हैं इस स्कूल की बसों से दो और हादसे : यहां उल्लेख करना होगा कि ईस्टर्न हाईट स्कूल की तेज रफ्तार बस से टकराने के कारण यह पहला हादसा नहीं है, बल्कि इससे पूर्व भी दो बार बस के चालकों ने तेजी व लापरवाही से वाहन चलाते हुए कत्थामिल के मोड़ पर ही दुर्घटनाओं को अंजाम दिया है, इन दोनों हादसों में भी दर्जनों स्कूली बच्चे दुर्घटना का शिकार हो चुके हैं। खास बात यह है कि साल दर साल लगातार हो रहे स्कूल हादसों के बावजूद स्कूल प्रबंधन संभलने और सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। स्कूल में कई बसें तो बेहद कंडम हालत में हैं, जिससे बच्चों की जान को खतरा बना हुआ है।


इस दौरान मुख्य रूप से जिला संयोजक वेदांश सविता मयंक दीक्षीत , , प्रान्त कार्यकारिणी सदस्य राहुल पडरिया, मयंक राठौर,  दीप्ति भदौरिया, अंजना राठौर, कृति शर्मा, हर्षित भार्गव, अनुरंजन चतुर्वेदी, आदित्य गोयल, कमल कुशवाह, रितिक परिहार , मुकुल राठौर , प्रदीप लोधी, प्रधुम्न गोस्वामी, देवेश धानुक, हरदीप बाजवा,  शुभम सिंघल, प्रिंस , अमन अवस्थी आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे