लोकसभा चुनावों में इस वजह से विधायकों को सांसद का टिकट नहीं देगी कांग्रेस !

जयपुर। इस साल होने वाले लोकसभा चुनावों में कांग्रेस विधायकों को सांसद का टिकट देने का रिस्क नहीं उठाएगी। पार्टी राजस्थान और मध्यप्रदेश में किसी भी विधायक को टिकट नहीं देने पर विचार कर रही है। इसकी वजह दोनों की जगहों पर गठबंधन की सरकार है।


राजस्थान में 200 में से 199 सीटों पर हुए चुनावों में कांग्रेस को 99 सीटों पर विजय मिली है, जबकि एक सीट पर गठबंधन वाली पार्टी राष्ट्रीय लोकदल ने जीत दर्ज की है। इस तरह राजस्थान में गठबंधन की सरकार बनी है। मध्यप्रदेश की बात करें तो 230 सीटों में से कांग्रेस को 114 सीटों पर जीत मिली और यहां भी कांग्रेस ने गठबंधन की सरकार बनाई है। ऐसे में एक भी सीट कम होती है तो सरकार पर खतरा मंडरा सकता है। पार्टी अगर यह निर्णय करती है तो राजस्थान के कई वरिष्ठ विधायक जो मंत्री नहीं बन पाए, उनके सांसद बनने का ख्वाब टूट जाएगा।


आलाकमान ने की चर्चा
पार्टी ने लोकसभा चुनावों को लेकर मंथन शुरू हो गया है। दिल्ली में राहुल गांधी ने देशभर के कांग्रेस प्रदेशाध्यक्षों से चुनावों को लेकर चर्चा की। इस दौरान लोकसभा चुनावों में कांग्रेस विधायकों को सांसद का टिकट देने पर भी विचार किया गया।


विपक्ष मजबूत स्थिति में
दोनों ही राज्यों में विपक्ष की स्थिति बहुत मजबूत है। खासकर मध्य प्रदेश भाजपा को 109 सीटों मिली है और वह बहुमत से महज 7 सीट दूर रह गई। इसी तरह राजस्थान में भी 73 सीटों पर भाजपा ने कब्जा जमाया है और निर्दलीय व अन्य पार्टियों ने 26 सीटों पर जीत दर्ज की है। मजबूत विपक्ष की वजह से भी कांग्रेस यह कदम उठाने जा रही है।


चुनावों पर लेकर मंथन शुरू
एआईसीसी के निर्देश पर 13 जनवरी को पूरे प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर जिलाध्यक्षों की अध्यक्षता में बैठक होगी, जिसमें 25 लोकसभा सीटों के लिए पैनल तैयार किए जाएंगे। इस बैठक में राज्य सरकार के जिला प्रभारी मंत्री, प्रदेश कांग्रेस के जिला प्रभारी, जिला कार्यकारणी, विधायक, विधानसभा चुनाव 2018 के पार्टी प्रत्याशी, ब्लॉक अध्यक्ष तथा वरिष्ठ कांग्रेस नेता भाग लेंगे। इस बैठक के बाद प्रदेश स्तरीय नेता सभी नामों पर चर्चा करेंगे और फरवरी तक नामों का पैनल केंन्द्रीय नेतृत्व को सौंप दिया जाएगा।