शिवराज ने पूछा, सरकार में असली मुख्यमंत्री कौन? फैसले कौन ले रहा है, युवा कार्यकर्ताओं में भरा जोश

भोपाल -पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस की प्रदेश सरकार लंगड़ी है। इस वजह से सरकार पर कभी कोई दबाव डालता है तो कभी कोई...। टेंशन में काम कर रही सरकार अपने ही निर्णय बदलती रहती है। एक मंत्री दबाव बनाता है तो उसका विभाग बदल दिया जाता है। समझ में नहीं आ रहा है कि इस सरकार में असली मुख्यमंत्री कौन है? फैसले कौन ले रहा है? शिवराज शनिवार को भारतीय जनता युवा मोर्चा की प्रदेश स्तरीय बैठक को संबोधित कर रहे थे।

शिवराज ने कहा कि सीटों के अंक गणित में भले ही हम पिछड़ गए हों, लेकिन जनता का ज्यादा विश्वास आज भी हमारे साथ है और यही हमारी पूंजी है। हम रुकने, झुकने और थकने वालों में से नहीं हैं। हमें निराश होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि हम संघर्षों में पले बढ़े हैं। सभी कार्यकर्ता अगले समर की तैयारी में जुटें। हमें हिसाब-किताब बराबर करना है।
मीसाबंदियों की सम्मान निधि बंद नहीं होने देंगे

शिवराज ने कहा कि मीसाबंदी लोकतंत्र के लिए लड़ने वाले वो सैनिक हैं, जिन्होंने कांग्रेस सरकार की तानाशाही के आगे घुटने नहीं टेके। अब कांग्रेस की सरकार इन लोकतंत्र सेनानियों की सम्मान निधि को बंद करना चाहती है। उन्होंने कहा कि ऐसा करके कांग्रेस इमरजेंसी के कलंक को झुठलाना चाहती है, लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे।

संबल योजना बंद करके दिखाए सरकार

शिवराज ने कहा कि कांग्रेस सरकार एक के बाद एक भाजपा सरकार के कामों और योजनाओं को बदलने का काम कर रही है। अब सरकार संबल योजना बंद करना चाहती है। पूर्व मुख्यमंत्री ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि कांग्रेस सरकार संबल योजना बंद करके दिखाए। कांग्रेस ने जो चुनावी वादे किए हैं, वह सब उन्हें निभाने पड़ेंगे। युवा मोर्चा हर पंचायत में बेरोजगारी भत्ते के फार्म भरवाए।

हमारे कार्यकर्ताओं पर नजर उठाई तो छोड़ेंगे नहीं

शिवराज ने कहा, 'मैंने कहा था कि क्यों चिंता करते हो, टाइगर अभी जिंदा है।" इसका मतलब साफ है कि अगर किसी ने भी हमारे कार्यकर्ताओं की तरफ आंख उठाकर देखा, तो हम छोड़ेंगे नहीं।