Breaking News

यह समय नहीं आराम का – कवयित्री शिवानी रजक

जो देश के हित में ना जले ,
वह दीप कहो किस काम का।
संघर्ष करो ए वीर पुरुष ,
यह समय नहीं आराम का ।।

क्या चलती नहीं तुम्हारी आंखें ,
ये जलती चिताए देखकर ।
क्या उठता नहीं मन में क्रोध ,
ये दीन दशाएं देखकर ।।
क्या बहता नहीं तेरी रगों में ,
वो कर्ज मां के नाम का ।
संघर्ष करो ए वीर पुरुष ,
ये समय नहीं आराम का ।।

उठाकर शस्त्र जो तुम ,
वीर पर बढोगे ।
करोगे देश सेवा ,
सदा संयम धरोगे ।।
कर्म करो अन्तिम सांस तक ,
न करो ध्यान परिणाम का ।
संघर्ष करो ए वीर पुरुष ,
यह समय नहीं आराम का ।।

कवयित्री- शिवानी रजक

Check Also

चीन के खिलाफ मोदी सरकार का बड़ा फैसला, TikTok समेत 59 Apps बैन

🔊 Listen to this नई दिल्ली. LAC पर भारत और चीन के बीच तनाव जारी …