Image result for राहुल गांधी के picमंथन न्यूज़ -  राहुल गांधी के सोमनाथ मंदिर के दौरे से विवाद खड़ा हो गया है जहां उनका नाम गैर-हिंदुओं के लिए रखी गयी प्रवेश पंजी पर लिखा मिला, जिसके बाद कांग्रेस ने इसे फर्जी करार दिया वहीं भाजपा ने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष को जनता के सामने अपनी धार्मिक आस्था का खुलासा करना चाहिए. 
कांग्रेस ने भाजपा पर अपने उपाध्यक्ष के खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगाया और कहा कि राहुल ने खुद को शिव-भक्त कहा था और वह जनेऊधारी हिंदू हैं. हालांकि भाजपा ने साजिश के आरोप को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि राहुल गांधी के जिस सहयोगी ने रजिस्टर पर दस्तखत किये थे वह कांग्रेस से जुड़े हैं. 
मंदिर प्रशासन ने सफाई देते हुए कहा कि राहुल के मीडिया समन्वयक ने उनका नाम मंदिर में गैर-हिंदुओं के लिए रखे गये रजिस्टर में लिखा और पूरे मामले से मंदिर के किसी कर्मचारी का कोई लेनादेना नहीं है. इस मंदिर में गैर-हिंदुओं को प्रवेश की अनुमति है लेकिन उन्हें पहले मंदिर के कार्यालय में अपना नाम दर्ज कराना होता है.
 राहुल ने आज सोमनाथ मंदिर में दर्शन करके गुजरात में चुनाव प्रचार के अपने दो दिन के दौरे की शुरुआत की. भगवान शिव का यह मंदिर अहमदाबाद से करीब 400 किलोमीटर दूर है.
 मंदिर में गैर-हिंदुओं के लिए रखे गये रजिस्टर के उस कथित पन्ने की फोटोकॉपी राहुल के मंदिर दर्शन के कुछ ही समय बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो गयी जिस पर राहुल और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अहमद पटेल के नाम लिखे थे. उनके नाम के आगे कांग्रेस के मीडिया समन्वयक मनोज त्यागी के हस्ताक्षर थे.
 कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, यह फर्जी है. त्यागी से मीडिया के प्रवेश के लिए रजिस्टर के एक खाली पन्ने पर दस्तखत कराये गये और बाद में राहुल गांधी एवं अन्य लोगों का नाम रजिस्टर में जोड़ा गया 
उन्होंने कहा, यह भाजपा की साजिश है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंदिर के ट्रस्टी हैं. सुरजेवाला ने कहा कि राहुल ने केवल आगंतुकों के रजिस्टर पर दस्तखत किये थे जहां उन्होंने लिखा कि यह जगह प्रेरणा देने वाली है. 
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि राहुल ने गुजरात के अपने हालिया दौरों में कहा था कि वह शिव-भक्त हैं. सुरजेवाला ने कहा, हो सकता है कि आप जानना चाहें कि राहुल गांधी किस धर्म का पालन करते हैं? मैं आपको बताना चाहता हूं कि वह जनेऊधारी हिंदू हैं. हालांकि भाजपा ने मांग की कि राहुल जनता के सामने अपनी धार्मिक आस्था का खुलासा करें.
 भाजपा के प्रवक्ता राजू ध्रुव ने कहा, विवाद उठने के बाद उन्हें इस देश की जनता के सामने अपनी आस्था के बारे में सफाई देनी चाहिए. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस के षड्यंत्र के आरोपों को बेबुनियाद बताकर खारिज करते हुए कहा कि मनोज त्यागी कांग्रेसी है | 

अमेरिका ने विश्व समुदाय पर उत्तर कोरिया से राजनयिक व आर्थिक रिश्ते तोड़ने का बढ़ाया दबाव मंथन न्यूज़  - अमेरिका ने सभी देशों से उत्तर कोरिया के साथ राजनयिक और आर्थिक संबंध तोड़ने की अपील की. अमेरिका ने चेतावनी दी, अगर युद्ध हुआ तो उत्तर कोरिया पूरी तरह बर्बाद हो जाएगा. अमेरिका ने यह चेतावनी गुरुवार को उत्तर कोरिया द्वारा बैलिस्टिक मिसाइल प्रक्षेपण किये जाने के बाद किया. इस प्रक्षेपण के बाद उत्तर कोरिया ने कहा था अब उसकी जद में पूरा अमेरिका आ गया है. इससे पहले गुरुवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया की तीखी आलोचना की थी. वे हाल में जब एशिया के लंबे दौरे पर आये थे तो चीन पर उन्होंने उत्तर कोरिया से कारोबारी रिश्ते तोड़ने को कहा था और उसका असर भी हुआ. 

अमेरिका ने चीन से उत्तर कोरिया के लिए कच्चे तेल की आपूर्ति  बंद करने  की अपील की है. उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग से व्यापारिक व कूटनीतिक संबंध तोड़ने के लिए अमेरिका ने सभी देशाों से आग्रह किया है. इसके लिए अमेरिका ने दबाव भी बढ़ाया है. संयुक्त राष्ट्र संघ सुरक्षा परिषद की आपाद बैठक में अमेरिकी राजदूत निकी हेली ने कहा है कि उत्तर कोरिया के हाल के प्रक्षेपण से यह जरूरी हो गया है कि सभी देश उसे अलग-थलग कर दें

लो कर लो बात : अब ऑनलाइन सर्विसेज के लिए भी जरूरी होगा आधार कार्ड...! मंथन न्यूज़ - केंद्र और राज्य की सरकार की सुविधा लेने के लिए आधार कार्ड जरूरी होने के बाद, अब ऑनलाइन सेवाओं का लाभ उठाने के लिए भी आपको सेवा प्रदाता के साथ अपनी आधार डीटेल्स शेयर करनी पड़ेगी जी हां, अब देश में ऑनलाइन सेवा प्रदाता कंपनियां भी खाते से आधार  लिंक करने की अपील करने लगी हैं.
इसी क्रम में ई-कॉमर्स प्लैटफॉर्म अमेजॉन ने ग्राहकों से उनके 12 नंबर के यूनीक आइडेंटिटी नंबर के डीटेल्स वेबसाइट पर अपलोड करने को कहा है.
इस कदम के पीछे अमेजॉन का तर्क यह है कि आधार नंबर से ग्राहकों के खो जानेवाले सामान को ट्रैक करना आसान होगा.
वहीं, बेंगलुरु में ऑनलाइन कार रेंटल कंपनी जूमकार ने भी अपनी बुकिंग के लिए आधार नंबर को जरूरी कर दिया है.
अब आधार के बिना देश के कुछ शहरों में उसके वाहन बुक नहीं किये जा सकते हैं.
कंपनी ने जून महीने में आधार डीटेल शेयर करने पर जोर दिया और अब वह एक महीने में पूरे देश के यूजर्स के लिए जरूरी करने का मन बना चुकी है.
अमेजन के प्रवक्ता मुताबिक, ग्राहकों की पहचान के लिए अधिकृत आइडेंटिटी प्रूफ की खासी जरूरत पड़ती है.
इसके लिए हमने अपने ग्राहकों को सरकार द्वारा जारी सरकारी पहचान दस्तावेज अपलोड करने के लिए कहा है.
आज के दौर में यूनीक आईडेंटिटी नंबर (आधार) पूरे देश में सर्वमान्य है, ऐसे में हम इसे प्राथमिकता दे रहे हैं.
अगर आप अपना आधार डीटेल अमेजाॅन के साथ शेयर करना नहीं चाहते, तो चिंता की कोई बात नहीं.
अमेजॉन फिलहाल बिना आधार के भी अपने प्रॉडक्ट्स की डिलीवरी ग्राहकों तक पहुंचायेगी

Image result for शहजाद पूनावाला ke pic मंथन न्यूज़ -  कांग्रेस में अध्यक्ष पद  के लिए राहुल गांधी की ताजपोशी की तैयारियां चल रही हैं. हालांकि ज्यादातर कांग्रेसी उन्हें अध्यक्ष मानकर ही चलते हैं, आधिकारिक घोषणा सिर्फ खानापूर्ति ही है. लेकिन इस रस्म अदायगी से पहले पार्टी के अंदर विरोध के स्वर फूटने लगे हैं. महाराष्ट्र कांग्रेस के सचिव शहजाद पूनावाला ने राहुल की ताजपोशी पर आपत्ति जाहिर की है. उन्होंने यहां तक कहा कि पार्टी में एक परिवार में से एक ही व्यक्ति को पद मिलना चाहिए. उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, 'मुझे जानकारी मिली है कि पार्टी प्रतिनिधि अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए वोट देने जा रहे हैं. यह तो पहले से ही तय है, फिर वोट डालने का पाखंड क्यों?' उन्होंने कहा कि सच बोलने पर उन पर हमले किए जाएंगे. लेकिन इसके लिए वे तैयार हैं. 
शहजाद पूनावाला के इस बयान के बाद कांग्रेस में हलचल मच गई है. पार्टी सूत्रों की मानें तो कई नेताओं ने पूनावाला की बात का समर्थन किया है, लेकिन सामने आने की हिम्मत किसी में नहीं हैं. इससे पहले भी कई नेता राहुल गांधी की कार्यप्रणाली पर सवाल उठा चुके हैं बता दें कि अगस्त में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा था कि राहुल को जिम्मेदारी देने का समय आ गया है. पार्टी में भी काफी समय से उनको अध्यक्ष बनाए जाने की मांग चल रही थी. पिछले महीने तो कई राज्यों की कांग्रेस इकाइयों ने प्रस्ताव भेजकर बकायदा राहुल की ताजपोशी की मांग उठाई थी. इनमें मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश की कांग्रेस इकाई ने पहल की थी.
चुनाव की तैयारियां: दिल्ली स्थित पार्टी कार्यालय में इस दिनों राहुल को अध्यक्ष बनाए जाने की तैयारियां चल रही हैं. यह एक चुनावी प्रक्रिया के तहत होगा. नामांकन शुक्रवार यानी एक दिसंबर से भरे जाएंगे. सूत्र बताते हैं कि राहुल 3 दिसंबर को नामांकन दाखिल करेंगे. केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण (सीईए) के अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन पूरी चुनाव प्रक्रिया पर नजर रखे हुए हैं. उन्होंने प्रदेश के रिटर्निंग अफसरों के साथ मुलाकात भी की है. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अप्रैल में मधुसूदन मिस्त्री को पार्टी की केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण (सीईए) का सदस्य नियुक्त किया था. कांग्रेस चुनाव प्राधिकरण के अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन और मिस्त्री के अलावा भुवनेश्वर कलिता को भी इसमें शामिल किया गया है. सीईए पर ही संगठनात्मक चुनाव कराने की जिम्मेदारी होती है. हालांकि राहुल निर्विरोध अध्यक्ष चुने जाएंगे. अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भरने के लिए प्रदेश कमेटी के 10 प्रतिनिधियों के समर्थन की जरूरत होती है

म.प्र. गुना- किसी भी खुशहाल, समृद्ध और वैभवशाली राष्ट्र निर्माण में बच्चों का महत्वपूर्ण योगदान होता है बशर्ते उनके बीच उत्तम शिक्षा के माध्यम से बेहतर शिक्षा और चरित्र निर्माण के सार्थक प्रयास हो। क्योंकि शिक्षा ही वह माध्यम है जो जीव जगत के कल्याण में अपनी महती भूूमिका अदा करती है। इतिहास गवाह है कि भारतवर्ष की विरासत, गौरव एवं वैभवशाली रही है। जिसमें प्राकृतिक सिद्धान्त आधारित जीवन मूल्यों के साथ जीवन निर्वहन की विभिन्न पद्धतियां समाहित रही है। 
            उक्त बात स्वराज के मुख्य संयोजक व्ही.एस.भुल्ले ने प्राथमिक, माध्यमिक और हाईस्कूल के बच्चों से खुशहाल जीवन पर चर्चा करते हुये कही। उन्होंने कहा कि खुशहाल जीवन समृद्ध राष्ट्र निर्माण में बच्चों का महत्वपूर्ण योगदान होता है। खुशहाल जीवन पर चर्चा में माध्यमिक स्कूल के छात्र गौरव, अर्जुन, राहुल, काशीराम, राजू, छात्रा संगीता, सेानिया, स्वाती, मुस्कान, सीमा, पूजा, सुनीता, चांदनी, राधिका, शिवानी, पूनम, पायल, भूमि, आरती, ईशिका, अंजली एवं हाईस्कूल के छात्र सोयस, वीरेन्द्र, छावा सपना, बबली ने अपनी उत्कंठा, सवाल और जबावों के माध्यम से बताया कि बच्चों को रोज सुबह उठकर माता-पिता को प्रणाम कर आर्शीवाद लेना चाहिए अपने गुरुजन और अपने बड़ों का सम्मान करना चाहिए और मिल-जुलकर प्रेम एवं त्याग की भावना के साथ शिक्षा के माध्यम से अपना चरित्र और भविष्य का निर्माण करना चाहिए। अगर हम अपने कत्र्तव्य निर्वहन के साथ जबावदेहियों का निर्वहन पूरी निष्ठा ईमानदारी के साथ करे तो निश्चित ही हम और हमारा भविष्य ही नहीं, हमारा गांव, गली, नगर, कस्बा, जिला, संभाग, प्रदेश, देश वैभवशाली एवं गौरवशाली होगा। 
            कार्यक्रम के अन्त में स्वराज के मुख्य संयोजक व्ही.एस.भुल्ले ने सभी बच्चों का धन्यवाद ज्ञापित करते हुये मातृशक्ति, राष्ट्रशक्ति, अनुशासित जीवन और प्रकृति प्रदत्त अहिंसा के मार्ग को जीवन का सर्वोत्तम मार्ग बताया। उन्होंने जीवन में शिक्षा का अभाव, चरित्र निर्माण में बड़ी बाधा बताये हुये दोहराया कि बेहतर शिक्षा ही बच्चों का बेहतर और वैभवशाली भविष्य निर्माण कर सकती है। जो किसी भी व्यक्ति, परिवार, समाज और राष्ट्र का मजबूत आधार होती है। खुशहाल जीवन का सपना हर व्यक्ति के लिये अहम होता है, बशर्ते जीवन अनुशासित और प्राकृतिक सिद्धान्त अनुरुप जीवन मूल्यों पर आधारित हो। कार्यक्रम में गुरुजनों के अलावा सेकड़ों की संख्या में छात्र-छात्रायें मौजूद रही। 


मंथन न्यूज
आज गुजरात चुनाव पर देश और दुनिया दोनो की नजर है क्योकि देश के प्रधानमत्री जी की पृष्ठभूमि गुजरात ही  है और  नरेंद मोदी जी के  देश के प्रधानमत्री बनने के बाद यह गुजरात का यह पहला विधानसभा चुनाव है तब वाजिब हो जाता है  ,जो प्रधानमत्री देश और  दुनिया में अपना परचम लहरा रहे हैं,उनकी पृष्ठभूमि में क्या मजबूती या कमी का आगाज हुआ है ,यह  विधानसभा चुनाव के नतीजेे आने के बाद पता चलेगा ।
देश का  प्रधान मंत्री  बनने के बाद  जिस तरह प्रधानमत्री नरेंद मोदी ने नोट  बन्दी जीएसटी जैसे कड़े कदम उठाये उसका क्या प्रभाव होगा यह देखने वाली बात है नोट बंदी के बाद यूपी चुनाव में भाजपा ने भारी  बहुमत से विजय हासिल की वहॉ नोट बन्दी भाजपा के लिए बूटी साबित हुयी। राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जो स्वयं गुजरात से आते है नरेंद मोदी के विश्वसनीय रणनीतिकार और खास माने जाते है जिनकी रणनीति भाजपा की सरकार बनाने देश में काम करती है। कहते है न ,रण में लडने के लिए रणनीति और रणनीतिकार दोनो की ही आवश्यकता होती है और पटेल आरक्षण मांग के बाद भाजपा के समीकरण को बनाये रखने के लिए  राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने   रणनीतिकारो को गुजरात की जिम्मेदारी सौपी है  इसी क्रम में राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने  मध्यप्रदेश के कैबिनेट जनसम्पर्क जल संसाधन मंत्री नरोत्तम मिश्र जो ग्वालियर चम्बल   से आते है उन पर  मध्यप्रदेश और ग्वालियर चम्बल अंचल के लोगो को गर्व महसूस होता है कि हमारे ग्वालियर चम्बल अंचल का एक व्यक्ति जो मध्यप्रदेश सरकार में मंत्री भी है  प्रदेश ही नही देश में भी कही भी किसी न किसी चुनाव में  भाजपा के सारथी की भूमिका अदा करता है।संगठन द्वारा दी गयी जिम्मेदारियो का निर्वहन पूरी ईमानदारी से करता है  मध्यप्रदेश के मंत्री नरोत्तम 2019 के चुनाव के लिए महाराष्ट्र की पॉच लोकसभा सीटो के  प्रभारी भी है जो मूलतः काग्रेस की है  और 2019 में उन सीटो को भाजपा तुल्य बनाने के लिए मंत्री नरोत्तम मिश्र को महाराष्ट्र का प्रभारी बनाया गया । जब से नरोत्तम सौराष्ट्र में चुनाव प्रभारी बने है  भाजपा कार्यकर्ताओ में जो उमंग और उत्साह  आ गया  है वो देखने योग्य है ।मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्र ने सौराष्ट्र की गलियो में रोड शो भी किया। वह दिन रात 24 घन्टे  सौराष्ट्र में  सभाएं कर रहे हैं।आज भी वह गुजरात के प्राची में भारत के विश्वविक नेता  जिन्होने पूरे विश्व में भारत का परचम लहराया है और मान  बढाया है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ मंच साझा करेगें  ।आज वहां के कार्यकर्ताओ और जनता के मनोबल को बढा रहे  नरोत्तम अपने जुमलो और जादुई व्यक्तिव से सौराष्ट्र की जनता के दिलो मे कम समय में जगह बना पाने में सफल हुये हैं।
एक टीव्ही चैनल के ओपनियन पोल के मुताबिक भाजपा  गुजरात के सौराष्ट्र में ज्यादातर सीटो पर जीतेगी

*देश-विदेश में उदाहरण बनता मध्यप्रदेश*

भोपाल,
मध्यप्रदेश आज देश का हृदय प्रदेश होने के साथ ही विकास के लिए पहचान बनाने वाले प्रदेशों में शामिल है। शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, सिंचाई, उद्योग, बिजली, पर्यटन, रोजगार के क्षेत्रों के साथ ही अच्छी सड़कों के‍ निर्माण के लिए मध्यप्रदेश में बेहतरीन कार्य हुआ है। प्रदेश की जनता प्रगति के प्रयासों में सहभागी हुई है। किसान, विद्यार्थी, महिलाएं, बच्चे, नौकरी पेशा लोग, मजदूर और अन्य सभी वर्ग प्रसन्न हैं। सभी जानते हैं कि मध्यप्रदेश में सरकार ने अधोसंरचना विकास को प्राथमिकता दी है। मध्यप्रदेश में विकास के हर क्षेत्र में अनूठा कार्य हुआ है। मध्यप्रदेश की कई योजनाओं को अन्य प्रदेश लागू कर चुके हैं। यही कारण है कि मध्यप्रदेश देश-विदेश में एक उदाहरण बन रहा है।
ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है जिसमें प्रगति के नए आयामों ने आकार न लिया हो। उदाहरण के लिए मध्यप्रदेश में आज से 14 वर्ष पहले सिंचाई का प्रतिशत सिर्फ साढ़े सात लाख हेक्टेयर था। आज जल संसाधन और नर्मदा घाटी विकास विभागों के प्रयासों से लगभग 40 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो रही है। जल संसाधन विभाग ने 60 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई का लक्ष्य वर्ष 2022 तक प्राप्त करने का रखा है। आज मध्यप्रदेश में अच्छी सिंचाई व्यवस्था का ही यह परिणाम है, कि बीच-बीच में अपना म.प्र. सूखे की स्थिति का सामना करने के बावजूद निरंतर "कृषि कर्मण अवार्ड" प्राप्त कर रहा है। यह बात कोई एक व्यक्ति नहीं कह रहा। आप मंडी की आवक के आंकड़े देख लीजिए। मंडी टैक्स का रिकार्ड  भी देखा जा सकता है। कृषि क्षेत्र में डबल डिजिट में ग्रोथ है।
मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व की ही यह उपलब्धि है कि आज एक बीमारू कहे जाने वाले राज्य को विकासशील बनाकर उसे विकसित राज्यों की श्रेणी में शामिल होने योग्य बनाया जा सका है। शिवराज जी का यह भी स्वप्न है कि डिजीटल इंडिया के निर्माण में मध्यप्रदेश की महत्वपूर्ण भूमिका हो। जहाँ मंत्रालय स्तर पर समाधान ऑन लाइन और वीडियो कान्फ्रेंसिंग जैसी अनेक व्यवस्थाएं लागू की गई हैं, वहीं राज्य में कार्य कर रहे कियोस्क सेंटर जनता को अनेक तरह की सुविधाएं प्रदान कर रहे हैं। विधानसभा के प्रश्नों के उत्तर भी ऑनलाइन दिए जा रहे हैं। आज राज्य का प्रत्येक तबका प्रसन्न है। आप सभी को स्मरण होगा ही कि आज से 14 वर्ष पहले बिजली कभी-कभी आती थी, अब कभी-कभी जाती है। यदि कानून व्यवस्था की बात करें तो यह सभी जानते हैं कि मध्यप्रदेश्‍ा की धरती से अब डकैत समस्या लगभग समाप्त हो चुकी है। दस्यु और गिरोह खत्म हैं। डाकू अब कहानियों और किस्सों में ही बचे हैं।
मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व में गत 12 वर्ष प्रदेश की प्रगति के वर्ष रहे हैं। इस अवधि में कोई ऐसा क्षेत्र नहीं, जिसमें विकास की पहल न हुई हो, आमजन का भी विकास में अच्छा सहयोग मिला है। आज का दिन मुख्यमंत्री जी, जन प्रतिनिधियों और आमजन को हार्दिक बधाई देने का दिन है। स्वर्णिम मध्यप्रदेश के लिए मध्यप्रदेश के जन-जन को मिलकर प्रयास बढ़ाने हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व में सफल 12 वर्ष पूर्ण होने पर ह्रदय से बधाई।
*डॉ. नरोत्तम मिश्र*
(जनसंपर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री तथा प्रदेश सरकार के प्रवक्ता हैं)

हार्दिक ने खुलेआम जनरल डायर से की शाह की तुलनामंथन न्यूज़ -  गुजरात में चरम पर पहुंच चुकी चुनावी सरगर्म के बीच ‘करो या मरो’ जैसी स्थिति में दिख रहे पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के नेता हार्दिक पटेल सत्तारूढ़ भाजपा के  खिलाफ अपना हमला और तेज करते हुए पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की तुलना आज खुलेआम जालियांवाला बाग कांड के खलनायक ‘जनरल डायर’ से कर डाली। कांग्रेस को समर्थन दे रहे हार्दिक ने यहां एक कार्यक्रम में कहा,‘मै अमित भाई शाह को एक अच्छे से नाम जनरल डायर से बुलाता हूं। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने 14 बच्चों को मार दिया (2015 में पाटीदार आरक्षण आंदोलन के दौरान मारे गये 14 लोग)। ये उनकी वजह से मरे। पूरा गुजरात इस बात को जानता हूं।
उन्होंने कहा कि उन पर जातिवादी होने का आरोप लगा रही भाजपा के अध्यक्ष शाह ही सरकार बदलने पर सांप्रदायिक आधार वाला डर दिखा रहे हैं।   पास नेता ने कहा कि गुजरात में विकास जमीन की हकीकत नहीं है। उनके हिसाब से यहां 50 लाख बेरोजगार हैं क्योंकि चार हजार पटवारी के पद के लिए 14 लाख आवेदन आ जाते हैं। इस राज्य की हकीकत गांवों में जाने से पता चलेगी बर्गर सैंडविच खाने से नहीं। यहां अमीर और अमीर बना है तथा गरीब भी गरीब हो गया है। सही बात कहने में बहुत से अमीर भी डर रहे हैं और ईडी, इनकम टैक्स और पुलिस तथा सत्ता के नुमाइंदों के डर से वे खुल कर कुछ नहीं बोलते

Image result for फिल्म ‘पद्मावती’ ke picमंथन न्यूज़ -  सुप्रीम कोर्ट ने फिल्म ‘पद्मावती’ को लेकर उच्च पदों पर आसीन लोगों द्वारा की गयी टिप्पणियों को गंभीरता से लेते हुए आज कहा कि यह बयान फिल्म के संबंध में पहले से धारणा बनाने जैसे हैं क्योंकि सेंसर बोर्ड ने अभी तक उसे प्रमाणित नहीं किया है। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली न्यायमूर्ति ए. एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी. वाई चन्द्रचूड़ की पीठ ने विदेश में फिल्म की रिलीज रोकने का निर्देश निर्माताओं को देने की मांग करने वाली ताजा याचिका खारिज कर दी।
याचिका दायर करने वाले अधिवक्ता एम. एल. शर्मा ने न्यायालय से अनुरोध किया था कि वह सीबीआई को निर्देशक संजय लीला भंसाली और अन्य लोगों के खिलाफ मानहानि और सिनेमैटोग्राफी कानून के उल्लंघन का मामला दर्ज करने का निर्देश दे। पीठ ने शर्मा की ओर से दायर ताजा याचिका पर कहा कि न्यायालय ऐसी फिल्म पर पहले से धारणा नहीं बना सकता, जिसे अभी सेंसर बोर्ड से प्रमाणपत्र नहीं मिला है। नाराज पीठ ने, हालांकि, शर्मा पर इस तथ्य के मद्देनजर जुर्माना नहीं लगाया कि वह शीर्ष न्यायालय में अधिवक्ता हैं।
बता दें कि पद्मावती पर देशभर में रोष है। राजपूत समुदाय का आरोप है कि फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली ने इतिहास से छेड़छाड़ की है। पिछले दिनों करणी सेना ने अभिनेत्री दीपिका पादुकोण की नाक तक काटने का बयान दिया था।इतना ही नहीं कुछ दिन पहले राजस्थान के नाहरगढ़ के किले की दीवार के साथ एक युवक का शव लटका हुआ मिला था। शव के पास पत्थर पर कोयले से फिल्म के विरोध बारे लिखा था। हालांकि पुलिस जांच कर रही है कि युवक ने आत्महत्या की या उसकी हत्या की गई

राहुल को नहीं है आंतक की समझ: रविशंकरमंथन न्यूज़ - केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को अहमदाबाद में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को आतंक की समझ नहीं है। उन्होने कहा कि 'हिंदू आतंकवाद' की रचना करने वाली कांग्रेस अवसरवादी है। 
सर्जिकल स्ट्राइक पर बोलते हुए उन्होंने कहा, 'जिस सर्जिकल स्ट्राइक की दुनिया भर मे चर्चा और तारीफ हुई उसको लेकर राहुल गांधी सेना से सबूत मांग रहे हैं। राहुल गांधी को शर्म आनी चाहिए।' 
वहीं रविशंकर प्रसाद ने गुजरात के अहमदाबाद में मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस गुजरात की जनता और पाटीदारों को गुमराह कर रही है। भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आरक्षण के मुद्दे पर कांग्रेस को जमकर घेरा

मंथन न्यूज़ - कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी बहुत ही जल्द पार्टी अध्यक्ष का पद सम्भालने वाले हैं। वहीं दूसरी ओर अटकलें लगाई जा रही हैं कि राहुल गांधी अपने कजिन भाई और बीजेपी सांसद वरुण गांधी का भारत की सबसे पुरानी पार्टी इंडियन नेशनल कांग्रेस में स्वागत कर सकते हैं। आगरा के एक स्थानीय नेता का मानना है कि वरुण गांधी को जो जगह मिलनी चाहिए वह जगह उन्हें बीजेपी में नहीं मिल रही है। राज्य में मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर वरुण गांधी सबसे ज्यादा लायक थे लेकिन पार्टी द्वारा उन्हें पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया। इंडिया टुडे से बातचीत के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ मुस्लिम नेता हाजी जमीलुद्दीन ने कहा कि भगवा रंग वाली पार्टी में वरुण को नजरअंदाज किया जा रहा है। 
जमीलुद्दीन ने कहा सार्वजनिक तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा पार्टी के किसी भी नेता को अपने ‘मन की बात’ कहने का मौका नहीं दिया जाता। वरुण गांधी बीजेपी के उन नेताओं में से एक हैं जो कि मोदी सरकार में अपनी बेबाक राय रखते हैं और उन्हें इसकी कीमत पार्टी द्वारा नजरअंदाज करके चुकाई जा रही है। यूपी में सत्ता में आने के बाद बीजेपी के कई समर्थकों ने वरुण गांधी का नाम मुख्यमंत्री के उम्मीदवार के तौर पर सबके सामने रखा था लेकिन उन्हें साइड कर योगी आदित्य नाथ को मुख्यमंत्री बना दिया गया जमीलुद्दीन के अलावा एक अन्य कांग्रेस वरिष्ठ नेता हाजी मंजूर अहमद ने कहा कि आगामी 2019 के लोकसभा चुनावों में एक सदस्य या पदाधिकारी के तौर पर वरुण गांधी को कांग्रेस कार्यकारिणी में शामिल किया जा सकता है। प्रियंका गांधी के समर्थन से वरुण गांधी और राहुल गांधी को पार्टी का मजबूत हिस्सा बनाया जा सकता है क्योंकि प्रियंका के वरुण के साथ बहुत ही अच्छा रिश्ता है। इतना ही नहीं अहमद ने यह भी कहा कि वरुण गांधी को बीजेपी से बाहर लाने और उन्हें कांग्रेस में शामिल करने में प्रियंका एक मुख्य स्रोत बन सकती हैं। अगर ऐसा होता है तो करीब 35 साल के बाद नेहरु-गांधी परिवार की एकता फिर से कायम होगी।

आज तक 3 घंटे पहले

मंथन न्यूज़ - केन्द्र सरकार द्वारा आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की सुरक्षा में कटौती किये जाने पर उनके बेटे और बिहार सरकार के पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव बेहद नाराज हैं। तेज प्रताप यादव ने केन्द्र के इस फैसले पर लगभग अपना आपा खोते हुए कहा कि वह नरेंद्र मोदी की खाल उधेड़वा लेंगे। तेज प्रताप यादव ने कहा कि उनके पिता लालू प्रसाद यादव की मर्डर की साजिश रची जा रही है। उन्होंने कहा कि वह नरेंद्र मोदी को मुहंतोड़ जवाब देंगे। सोमवार  से शुरू हुए बिहार विधानसभा के शीतकालीन सत्र में शिरकत करने के लिए जाते हुए तेज प्रताप यादव ने कहा कि अभी आरजेडी के कई कार्यक्रम प्रस्तावित हैं, लालू यादव इन कार्यक्रमों में जाते रहते हैं, बावजूद इसके सरकार ने उनकी सुरक्षा कम कर दी है। सरकार के फैसले से खफा तेज प्रताप यादव ने कहा कि उनके पिता की हत्या की साजिश रची जा रही है, लेकिन आरजेडी इसका मुहंतोड़ जवाब देगी। इसके बाद उन्होंने दो बार कहा कि वह नरेंद्र मोदी की खाल उधेड़वा लेंगे तेज प्रताप ने यहां संवाददाताओं से कहा, “हम लोग कार्यक्रमों में जाते रहते हैं। लालू प्रसाद जी भी इन कार्यक्रमों में जाते रहते हैं। ऐसे में सुरक्षा वापस लेना, उनकी हत्या कराने की साजिश है। हम इसका मुहतोड़ जवाब देंगे, नरेंद्र मोदी जी की खाल उधड़वा देंगे बता दें कि केन्द्र सरकार ने बिहार के दो पूर्व सीएम लालू प्रसाद यादव और जीतन राम मांझी की सुरक्षा में कटौती की है। पहले इन दोनों नेताओं को “जेड प्लस” कैटेगरी की सुरक्षा मिलती थी। अब इन्हें सिर्फ “जेड” श्रेणी की सुरक्षा दी जाएगी। जेडीयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव की सुरक्षा में भी कटौती हुई है। हाल ही में तेज प्रताप यादव तब विवादों में आए थे जब उन्होंने बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी को धमकी देते हुए कहा था कि वह  उनको उनके घर में घुसकर मारेंगे। तब तेज ने बयान दिया था कि अगर वह सुशील मोदी के बेटे की शादी में जाते हैं तो वह उनकी पोल खोल देंगे। तेज प्रताप की इस धमकी के बाद सुशील मोदी ने अपने बेटे की शादी की जगह बदल ली थी। हालांकि इसके लिए उन्होंने दूसरे कारणों का हवाला दिया था। सुशील मोदी ने कहा कि वह नहीं चाहते कि किसी प्रकार का विवाद अथवा अव्यवस्था पैदा हो। सुशील मोदी ने कहा कि किसी को कोई मौका मिले, ये ठीक नहीं है। बेहतर सुरक्षा और पार्किंग की व्यवस्था को देखते हुए स्थल बदला गया है

केंद्र सरकार पर बरसे लालू, कहा- मुझे कुछ हुआ तो पीएम मोदी-नीतीश होंगे जिम्मेवार
 मंथन न्यूज़ -  अपनी सुरक्षा में कटाैती किये जाने से नाराज राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने कल  केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा है. लालू यादव ने कहा कि पीएम मोदी नहीं चाहते हैं कि हम कहीं आये और जाये. मुझ पर कहीं भी हमला कराया जा सकता है. उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार ने हमें जेड प्लस की सुरक्षा दी थी. मुझे कुछ हुआ तो इसके लिए नीतीश कुमार और पीएम मोदी जिम्मेवार होंगे. उन्होंने आगे कहा कि वे किसी से डरने वाले नहीं है. मेरी सुरक्षा बिहार का बच्चा-बच्चा करेगा | पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव के बड़े बोल पर लालू यादव ने सफाई देते हुए कहा कि पिता को साजिश में फंसाएंगे तो बेटा बोलेगा ही, लालू प्रसाद डरने वाला इंसान नहीं. उन्होंने कहा कि पूर्व सीएम जीतनराम मांझी को नक्सलियों का थ्रेट है, उनकी भी सुरक्षा कम कर दी गयी. लालू प्रसाद ने कहा कि साजिश के तहत सुरक्षा में कटौती की गयी है. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी नहीं चाहते हैं कि मैं कहीं भी आना-जाना करूं उल्लेखनीय है कि केंद्र ने राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू प्रसाद यादव को मिले वीआइपी एनएसजी कमांडो के सुरक्षा कवर जेडू को हटा लिया है. आधिकारिक सूत्रों ने आज बताया कि सुरक्षा पाने वाले विभिन्न लोगों को खतरे की हालिया समीक्षा के बाद यह कदम उठाया गया है. सूत्रों ने बताया कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री को अब जेड श्रेणी की सुरक्षा दी जायेगी. इस श्रेणी के तहत मिलने वाले सुरक्षा कवर के अनुसार, अब उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के सशस्त्र कमांडो दस्ते की होगी.

अब लालू की सुरक्षा की जिम्मेदारी राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के ब्लैक कैट कमांडोज की नहीं होगी. एनएसजी सिर्फ जेडू सुरक्षा कवर मुहैया करवाती है. सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सुरक्षा पाने वाले विभिन्न अति विशिष्ट व्यक्तियों (वीआइपी) को खतरों की हाल ही में समीक्षा की थी, जिसके बाद यह फैसला लिया गया. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को प्राप्त जेडू सीआरपीएफ वीआइपी सुरक्षा कवर पूरी तरह से वापस ले लिया गया है. अब उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी राज्य पुलिस की होगी. उन्होंने बताया कि कोयला एवं खान राज्य मंत्री को जेड श्रेणी का सुरक्षा कवर तब दिया गया था जब वह गृह राज्य मंत्री थे

तो अपनी पत्नी की वजह से पॉलिटिक्स में नहीं आना चाहते रघुराम राजन मंथन न्यूज़ -  रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने साफ कर दिया है कि वो कभी राजनीति का हिस्सा नहीं बनेंगे और उन्होंने इसकी बहुत दिलचस्प वजह भी बताई है. इसके पीछे उनकी पत्नी का हाथ है.
कुछ दिनों पहले आम आदमी पार्टी की एक बैठक से एक खबर निकली थी कि आप पार्टी राजन को राज्यसभा की सदस्यता देने पर विचार कर रही है. आप ने ये प्रस्ताव भी रखा लेकिन राजन ने ये प्रस्ताव ठुकरा दिया. उनका कहना था कि वो राजनीति में नहीं आना चाहते.
टाइम्स ग्रुप की ओर से आयोजित साहित्य महोत्सव में हिस्सा लेने पहुंचे रघुराम राजन ने कहा कि राजनीति के मामले में उनकी पत्नी ने साफ-साफ मना कर रखा है. और इसके अलावा वो राजनीति में वैसे भी दिलचस्पी नहीं रखते. वो प्रोफेसर की भूमिका निभाकर खुश हैं और यही काम करते रहना चाहते हैं.
उन्होंने कहा, 'जब मैं आरबीआई का गवर्नर था, तब लोग मुझे आईएमएफ भेजना चाहते थे और अब जब वापस प्रोफेसर बन गया हूं तब लोग मुझे कहीं और देखना चाहते हैं. मैं प्रोफेसर के तौर पर काफी खुश हूं. दिन में कई घंटे काम करने के लिए मेरे पास दिमाग है. अपने काम को मैं पसंद करता हूं.'इसके अलावा भी पूर्व आरबीआई गवर्नर ने कई गंभीर मुद्दों पर अपना पक्ष रखा.
  उन्होंने पॉपुलिस्ट नेशनलिज्म यानी लोकलुभावन राष्ट्रवाद पर कहा कि ये आर्थिक विकास के लिए हानिकारक है. आमतौर पर यह बहुसंख्यक समुदाय में भेदभाव को लेकर उन्हें उत्तेजित करता है. लोग शिकायत की इस भावना का फायदा उठाते हैं. 
 देश में आरक्षण का मुद्दा इसका एक उदाहरण है. पॉपुलिस्ट नेशनलिज्म का मिथ्या दुनियाभर में है और भारत इससे बचा हुआ नहीं है.उन्होंने कहा, यह महत्वपूर्ण है कि नौकरियों की समस्या को सुलझाया जाए. बहुसंख्यक कम्युनिटी की शिकायतों को बढ़ा-चढ़ा कर नहीं कहा जा सकता, क्योंकि अल्पसंख्यक काफी समय से भेदभाव का सामना कर रहे हैं. उन्होंने कहा, राष्ट्रवाद देशभक्ति नहीं है, क्योंकि ये बांटता है जो कि खतरनाक है. फिर भी उन लोगों को खारिज करना गलत है जो इन चीजों पर आवाज बुलंद करते हैं. 
उन्हें गंवार के रूप में खारिज कीजिए. जीएसटी पर उन्होंने कहा, शुरुआती कुछ समस्याओं के बावजूद यह लंबे समय के लिए अच्छा है. इसकी कुछ खामियों को दूर करने की जरूरत है

Image result for नरेंद्र मोदी ke pic
मंथन न्यूज़ -  गुजरात विधानसभा चुनावों के लिए सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भुज से अपने प्रचार अभियान की शुरुआत की. यहां भुज में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि 'भुज का प्‍यार पाकर अभिभूत हूं'. पीएम ने कहा कि 'आशापुरा मां से अशीर्वाद लेना सौभाग्‍य की बात है. मैं जनता का आशीर्वाद लेने गुजरात आया हूं. विपक्ष कीचड़ उछालता रहे, कमल खिलता ही रहेगा.' पीएम ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि 'एक तरफ विकास में विश्‍वास है तो दूसरी तरह वंशवाद है. ये चुनाव विकास के विश्‍वास और वंशवाद के खिलाफ है'. पीएम ने आगे कहा कि 'क से कच्‍छ, क से कमल होता है. कांग्रेस गुजरात तुम्‍हें कभी माफ नहीं करेगा. मैैं किसानों की मेहनत को सलाम करता हूं'. प्रधानमंत्री ने यहां उम्‍मीद जताते हुए कहा, बीजेपी गुजरात में कम से कम 151 सीटें जीतेगी.   
पीएम ने कहा कि पाकिस्‍तान की कोर्ट ने आतंकी हाफि‍ज सईद को छोड़ा तो कांग्रेस को ताली बजाने की क्‍या जरूरत है? प्रधानमंत्री ने कहा कि एक वक्‍त था जब कच्‍छ में कोई नौकरी करने के लिए आने को तैयार नहीं था. लोगों को पानी की दिक्‍कत की वजह से यहां अपना घर भी छोड़ना पड़ता था. पीएम ने कहा, कांग्रेस के नेता गुजरात की धरती पर आकर उसी के बेटे का अपमान करते हैं. कांग्रेस ने इसी तरह गुजरात के बेटे सरदार पटेल का भी अपमान किया. गुजरात के बेटों का अपमान करने की सजा जनता कांग्रेस को देगी. गुजरात मेरी आत्‍मा और भारत परमात्‍मा है. रैली सेे पहलेे पीएम नरेंद्र मोदी यहां आशापुरा माता से आशीर्वाद लेने के लिए मंदिर पहुंचे और पूजा-अर्चना की. यहां पीएम ने सुरक्षा का घेरा तोड़कर मंदिर में आए लोगों से मुलाकात की. पीएम खास तौर पर यहां बच्‍चों से मिले. पीएम मोदी कच्छ जिले के भुज शहर के बाद राजकोट के जसदान शहर, अमरेली के धारी और सूरत जिले के कडोदरा में सभा को संबोधित करेंग दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात में आज (27 नवंबर) और 29 नवंबर को कुल मिलाकर आठ रैलियों को संबोधित करेंगे. यहां विधानसभा चुनावों के लिए प्रथम चरण में नौ दिसंबर को वोट डाले जाएंगे. प्रधानमंत्री 29 नवंबर को दक्षिण गुजरात में सोमनाथ के नजदीक मोरबी और प्राची गांवों में, भावनगर के पलीताना में और नवसारी में जनसभाओं को संबोधित करेंगे. भाजपा गुजरात में 'मोदी के करिश्मे' को आधार बनाते हुए हर सीट और एक-एक बूथ पर ध्यान केंद्रीत कर रही है और इस अभियान में पन्ना प्रमुख से जिला प्रमुख और प्रदेश एवं राष्ट्रीय नेताओं तथा मंत्री एक केंद्रीत कमान के रूप में काम कर रहे हैं. उल्‍लेखनीय है कि करीब 15 सालों में पहली बार राज्य में पीएम मोदी भाजपा का चेहरा नहीं हैं और पाटीदार नेता हार्दिक पटेल तथा पिछड़े वर्ग के नेता जिग्नेश मेवाणी एवं ठाकोर के साथ कांग्रेस की ओर से भाजपा को चुनौती दी जा रही है. ऐसे में भाजपा एक बार फिर 'मोदी मैजिक' का सहारा लेती नजर आ रही है गुजरात प्रदेश भाजपा प्रवक्ता भारत भाई पांड्या ने बताया कि हर रैली को इस तरह से आयोजित किया गया है कि आसपास के पांच-छह   विधानसभा क्षेत्रों के लोग भी इसमें शामिल हो सकें. समझा जाता है कि प्रधानमंत्री मोदी गुजरात में 25 से 30 सभाओं को संबोधित करने जा रहे हैं. भाजपा ने कांग्रेस के 'विकास पागल हो गया है' के नारे की काट के रूप में 'मैं गुजरात छू, मैं विकास छूं' के नारे पर जोर दे रही है.27 नवंबर को भाजपा के कई और प्रमुख नेता भी पहले चरण के मतदान वाले क्षेत्रों में प्रचार करेंगे. भाजपा की ओर से स्टार प्रचारकों में केंद्रीय मंत्री- राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, अरुण जेटली तथा सुषमा स्वराज व भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री- योगी आदित्यनाथ, वसुंधरा राजे समेत कई अन्य नेता शामिल हैं. भाजपा नेता ने बताया कि 26-27 नवंबर को स्टार प्रचारक पहले चरण में मतदान वाली सभी 89 सीटों पर प्रचार करेंगे.उल्‍लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'मन की बात' के साथ 26 नवंबर को भाजपा का गुजरात चुनाव का प्रचार अभियान शुरू हो गया, जहां राज्य के सभी पचास हजार बूथों पर शाह समेत केंद्र के प्रमुख मंत्रियों एवं नेताओं तथा भाजपा कार्यकर्ताओं ने चाय पर लोगों के साथ मन की बात सुनी. इसी दिन शाम से पार्टी राज्य के पहले चरण की सभी 89 सीटों पर एक साथ चुनावी सभाएं कर रही है, जिनमें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ सभी प्रमुख नेता हिस्सा ले रहे हैं. 'मन की बात, चाय पे चर्चा के साथ' का आयोजन भाजपा ने ऐसे समय में किया है, जब कुछ ही दिन पहले युवा कांग्रेस ने मोदी के चाय बेचने की पृष्ठभूमि को लेकर तंज किया था हालांकि बाद में पार्टी ने इससे अपने आप को अलग कर लिया था

IND vs SL : भारत ने श्रीलंका पर पारी और 239 रन की बड़ी जीत दर्ज की, अश्विन ने बनाया सबसे तेज 300 विकेट लेने का रिकॉर्ड मंथन न्यूज़ -  श्रीलंका के खिलाफ खेले गये दूसरे टेस्ट मैच में भारत ने श्रीलंका को एक पारी और 239 रन से हरा दिया. यह भारत की बहुत बड़ी जीत है. आज सुबह श्रीलंका ने कल के स्कोर एक विकेट के नुकसान पर 21 रन से आगे खेलना शुरू किया और लंच के बाद ही पूरे नौ विकेट खो दिये. आज के खेल के हीरो रहे रविचंद्रन अश्विन जिन्होंने सबसे तेज 300 विकेट लेने का रिकॉर्ड बनाया.
 इससे पहले कप्तान विराट कोहली के रिकार्ड दोहरे शतक और रोहित शर्मा के नाबाद शतक से भारत ने दूसरे क्रिकेट टेस्ट के चौथे दिन 405 रन की बढ़त लेने के बाद दूसरी पारी में श्रीलंका का स्कोर एक विकेट पर 21 रन करके मैच पर शिकंजा कस दिया. आज श्रीलंक़ा ने कल के स्कोर एक विकेट के नुकसान पर 21 रन से  आगे खेलना शुरू किया और अभी स्कोर चार रन के नुकसान पर 75 रन है कोहली ने कप्तान के रुप में पांचवां दोहरा शतक जड़ते हुए 267 गेंद में 17 चौकों और दो छक्कों की मदद से 213 रन की पारी खेली. उन्होंने इसके अलावा एक साल से भी अधिक समय बाद पहला टेस्ट खेल रहे रोहित (160 गेंद में नाबाद 102, आठ चौके, एक छक्का) के साथ पांचवें विकेट के लिए 173 रन की साझेदारी भी जिससे भारत ने अपनी दूसरी पारी छह विकेट पर 610 रन बनाकर घोषित की.
कोहली ने चेतेश्वर पुजारा (143) के साथ भी तीसरे विकेट के लिए 183 रन जोडे. इन तीनों के अलावा कल सलामी बल्लेबाज मुरली विजय (128) ने भी शतक जडा था. यह तीसरा मौका है जब भारत के चार बल्लेबाजों ने पारी में शतक जडा है. कोहली ने इसके साथ ही कप्तान के रुप में पांच दोहरे शतक के वेस्टइंडीज के महान बल्लेबाज ब्रायन लारा के रिकार्ड की बराबरी की. कोहली ने 130 गेंद पर 10 चौकों की मदद से अपना 19वां टेस्ट शतक पूरा किया और कप्तान के रुप में 12वां शतक जडते हुए सुनील गावस्कर के 11 शतक को पीछे छोडकर भारत की ओर से सबसे अधिक टेस्ट शतक जड़ने वाले कप्तान बने.
श्रीलंका की तरफ से दिलरवान परेरा सबसे सफल गेंदबाज रहे जिन्होंने तीन विकेट चटकाए लेकिन इसके लिए उन्होंने 202 रन लुटाए। रंगना हेराथ (81 रन पर एक विकेट), लाहिरु गमागे (97 रन पर एक विकेट) और दासुन शनाका (103 रन पर एक विकेट) को एक-एक विकेट मिला. दूसरी पारी में भी श्रीलंका की शुरआत खराब रही और टीम ने दूसरी ही गेंद पर सदीरा समरविक्रम (00) का विकेट गंवा दिया जिन्होंने इशांत शर्मा (15 रन पर एक विकेट) की अंदर की ओर आती गेंद को छोडने का फैसला किया और अपना आफ स्टंप गंवा दिया. सलामी बल्लेबाज दिमुथ करणारत्ने (नाबाद 11) और लाहिरु थिरिमाने (नाबाद 09) ने हालांकि इसके बाद श्रीलंका को बाकी बचे 8 . 4 ओवर में और झटके नहीं लगने दिए. श्रीलंका को पारी की हार टालने के लिए अब भी 384 रन की दरकार है जबकि उसके नौ विकेट शेष हैं

भारत-पाक सीरीज पर बोले धौनी, यह मैच से बड़ा फैसला, इसे सरकार ही तय करे
 मंथन न्यूज़ - भारत के सीनियर खिलाडी महेंद्र सिंह धौनी ने आज व्यस्त कार्यक्रम के मुददे पर कप्तान विराट कोहली का समर्थन किया और कहा कि टीम को दक्षिण अफ्रीका जैसे दौरों के लिए परिस्थितियों के अनुरुप ढलने की तैयारी के लिए समय की जरुरत है. धौनी टेस्ट टीम में नहीं हैं लेकिन दक्षिण अफ्रीका के आगामी दौरे के लिए वनडे टीम में होंगे. हालांकि उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर के तौर पर यह काफी चुनौतीपूर्ण है.
धौनी ने यहां कहा, यह बिलकुल सही है क्योंकि हम इतना क्रिकेट खेलते हैं कि हम जब विदेशों में खेलने जाते हैं तो हमें तैयारी के लिए काफी समय नहीं मिलता. लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर के तौर पर यह एक चुनौती भी है. कोहली के बयान के संबंध में सवाल पूछने पर उन्होंने कहा, हालात का आदी होने के लिए कुछ समय की जरुरत होती है, लेकिन अगर आप इस टीम को देखो तो ऐसे कई क्रिकेटर हैं जो विदेश में खेल चुके हैं और इससे काफी मदद मिलती है. अगर उन्हें छह से आठ या 10 दिन मिल जाते हैं तो यह अच्छा होगा.
लेकिन जो भी समय उन्हें मिलेगा, मुझे लगता है कि वे अच्छा करेंगे. पूर्व भारतीय कप्तान यहां कुंजेर क्रिकेट मैदान पर खेले गये एक मैच के मौके पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे. धोनी श्रीनगर की चिनार कोर द्वारा आयोजित चिनार क्रिकेट प्रीमियर लीग के फाइनल्स में मुख्य अतिथि थे.
धौनी से जब पूछा गया कि भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय सीरीज आयोजित होनी चाहिए तो उन्होंने कहा कि यह फैसला सरकार पर ही छोड़ देना चाहिए. उन्होंने कहा कि जब चिर प्रतिद्वंद्वी टीमों के बीच क्रिकेट मैच की बात आती है तो यह खेल से कहीं अधिक बड़ा मुद्दा बन जाता है. धौनी ने कहा, जब भारत-पाकिस्तान क्रिकेट की बात आती है तो यह महज खेल नहीं होता क्योंकि यह इससे भी बड़ा बन जाता है. यह सरल फैसला नहीं है लेकिन राजनीतिक फैसला है

MARI themes

Blogger द्वारा संचालित.